CAB और CAA Bill क्या है? CAA का क्यो हो रहा है विरोध ?

आज पूरे भारत मे जिसका सबसे ज्यादा शोर हैं वो CAB Bill और NRC Bill हैं क्या आप जानते है CAB क्या हैं जिसे अब CAA कर दिया गया हैं? (CAA Kya Hai) और क्यो इस CAB की वजह से भारत मे कोहराम और भय का माहौल बना हुआ है अखिर किस लिये लोग इतना परेशान हैं आज हम आपको इसकि Full Detail देगे’

और आपको CAB In Hindi के बारे में विस्तार से बताने जा रहे औईये जानते है What Is CAB In Hindi. इस पोस्ट द्वारा आप ये भी समझेंगे की CAA और CAB में क्या अंतर है?

आज देश के बने हिंसक माहौल का एक ही कारण है एक तो CAB और दूसरा है NRC. परन्तु इस पोस्ट में हम CAB के बारे में बात करने जा रहे है पर इससे पहले की हम जाने की CAB क्या होता है पहले हम जान लेते है कि CAB Ka FullForm क्या होता है? ( What is the fullform of CAB )

CAB का full form क्या हैं :

CAB का फूलफॉर्म है Citizenship Amendment Bill. इसे हिंदी में नागरिकता संशोधन कानून से जाना जाता है। चलिये अब जानते हैंं अखिर CAB क्या हैंं।

CAB Bill क्या है (What is CAB Bill?)CAA Kya Hai hindi

 

आपको बता दे कि Citizenship Amendment Bill के तहद भारत के पड़ोसी मुल्क जैसे कि पाकिस्तान, बाग्लादेश या किसी भी पड़ोसी देश से किसी धार्मिक पीड़ा से पीड़ित नागरिक अगर भारत मे शरण लेता है तो उसे भारतीय नागरिकता 11 साल भारत मे रहने के बाद मिल सकती है चाहे उसे कोई भी राष्ट्रीयता प्राप्त हो। इसमे धर्म  हिन्दू, शिख, बुद्धिस्ट, जैैन, पारसी, क्रिश्चियन, ईसाई, और मुसलिम शामिल है। इसकी शर्ते हैं उसे भारत मे 11 साल बिताने होते है।

परंतु 12 दिसम्बर 2019 को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने CAB से बदल कर CअAA कर दिया गया। जैसे ही ये बदलाव हुआ जगह जगह हिंसा भड़क गई। बताया जा रहा है कि इस हिंसा कारण ज्यादातर भ्रम ही है।

अब आइये ये जानते है कि नागरिकता संशोधन बिल ( CAB ) में क्या बदलाव हुआ है और CAB से CAA करने की क्या जरूरत पड़ी और इसके लिए क्यों आज हर तरफ कोहराम मचा हुआ है।

CAA का Full Form क्या है?

CAA का फूलफॉर्म Citizenship Amendment Act  है जिसे हिंदी में नागरिकता संशोधन अधिनियम सेे पहचाना जाता है। चलिये अब जानते हैंं अखिर CAB मे क्या कौन कौन  से बदलाव किया गया हैं।

CAA Bill क्या है? (What is CAB Bill?)

CAB में Act 1955 में कुछ संशोधन किया गया है ये तय किया गया है कि भारत के पड़ोसी देश ( पाकिस्तान, बाग्लादेश, अफगानिस्तान, या किसी भी पड़ोसी देश से किसी धार्मिक पीड़ा से पीड़ित हिन्दू, सिख, ईसाई, बौद्ध, पारसी, नागरिक अगर भारत मे शरण लेता है तो उन्हें भारत की नागरिकता प्रदान होगी, परंतु शरणार्थी अगर मुस्लिम है तो उसे भारत की नागरिकता कभी भी प्राप्त नही होगी इसे CAA ( Citizenship Amendment Act ) मे कहाँ गया।

Note: बस CAA मे मुस्लिम को नागरिकता प्रदान नही होगी

CAA में एक बात भी जोड़ी गयी है कि 31 दिसम्बर 2014 तक जितने शरणार्थी भारत मे शरण ले चुके है वह भारत की नागरिकता के पात्र होंगे, उसके बाद के समय मे शरण लेनेवाले शरणार्थी पर सवाल उठाया जा सकता है और उनको भारत की नागरिकता नही मिलेगी।

INDIA मे जो Citizenship का जो issue है उसको 2 जगह पर Discuss किया गया हैं। 

  1. Constitution Of INDIA
  2. Citizenship of  INDIA Act, 1955

Constitution ये कहता हैं कि 1950 को कौन कौन Indian Citizen होगे, पर Constitution के जो Provision है वो हमारे दादा पर दादा के लिये Useful थे पर उसके बाद के जो भी Provision हैं जैसे 1950 के बाद कौन Indian Citizen बनेगा, या आज कैसे बन सकते हैं या आने वाले कलको कैसे बन सकते हैं। कैसे Indian Citizenship ले सकते हैं, ये सब Citizenship of  INDIA Act, 1955 मे Discuss किया गया हैं।

अब ये देखते हैं ये जो बिल हैं इसका मेन Purpose क्या हैं, Citizenship लेने के लिये जो Act है ये Bill उसे change करना चाहता हैं इसमे 2 बडे Changes करे गये हैं।

  • Illegal Immigrant 

अगर कोई भी इंसान India मे रहने आये वो भी बिना Vallid Passport या Fraud Documents दिखाकर या जितने वक्त के लिये उसे India मे रहने की Permission मिली थी उससे ज्यादा Time के लिये वो रह रहा हैं तो वो Illegal Immigrant कहेलायेगा, और उसे देेश से निकाला जायेगा।

पर ये CAA Bill अब इसे Change करता हैं, और कहता है 31 December 2014 से पहले जो भी लोग जैैसे भी India मे आये हैं वो किसी भी तरह से आये हो अगर वो Pakistan, Afghanistan, Bangladesh से है और इन 6 धर्म Hindus, Sikhs, Buddhist, jains, Parsi, Christians मे से हैं तो इनको INDIA की Citizenship दे दिया जायेगा, जिसमे Muslim धर्म के सभी लोगो को देेश छोडकर जाना होगा।

जिसका मतलब ये हुवा CAA Bill कहता है जो लोग अभी तक illegally India मे रह रहे थे उनको India की Citizenship दे दिया जयेगा सिर्फ मुस्लिम धर्म को नही दिया जायेगा ।

  • Process to acquire Citizenship 

पहले ये Act कहता था मान लिजिये आप किसी दुसरी Country से Citizenship लेने आते है तो आपको 11 साल India मे रहना होगा या आपको Government Service करनी पडेगी और इन 11 साल के बाद ही आपको Indian Citizenship मिलेगी, पर ये जो CAA Bill हैं इस पूरे Process को ही Change कर देता हैं और ये कहता हैं अगर आप इन 3 देशो से हैं Pakistan, Afghanistan, Bangladesh से है और इन 6 धर्म Hindus, Sikhs, Buddhist, jains, Parsi, Christians मे से हैं तो अब आपको 11 साल नही बल्की सिर्फ 5 साल के बाद आपको Indian Citizenship मिल जायेगी।

इसी हिसाब से आपको December 2014 की Date दि गयी हैं  December 2014 सेे2019 तक 5 साल होते हैं और ये सारे Illegal Immigrant बदल जाते हैैं Legal Immigrant मेे ।

CAA का क्यो हो रहा है विरोध :

जैसे कि हमने आपको पहले ही बताया कि CCA का विरोध के बहुत से कारण है कुछ इसको धर्म से जोड रहे हैं तो कुछ इसे सविधान के साथ छेड छाड के विरोध मे हैं क्योंकि लोगो का अनुमान है कि दूसरे देश से आनेवाले शरणार्थी अगर उनके साथ उनके माहौल में रहेंगे तो भारत मे रहनेवाले नागरिकों की संस्कृति को खतरा पैदा हो सकता है और फिर भविष्य में उनकी ही नागरिकता पर प्रश्नचिन्ह पैदा हो सकता है क्योकि धीरे धीरे शरणार्थियों की संख्या बढ़ने लगेंगी और उनका वर्चस्व कम होने लगेगा साथ साथ उनके रोजगार के अवसर पर भी वे शरणार्थी हक मार सकते है।

ये भी देखे : आय प्रमाण पत्र ऑनलाइन कैसे बनाये ये है पूरा प्रोसेस।

दूसरी तरफ मुस्लिम समुदाय भी इस विरोध करते दिख रहे है उनका मानना है कि देश मे इस प्रकार का संशोधन करने से देश की छाप पर गलत असर कर सकती है क्योंकि भारत एक धर्म निरपेक्ष देश है और उन्हें इससे बाहर रखा गया है। मुस्लिम समुदाय के लोगो को नगरिकता न मिलने की वजह से आज सभी इसका विरोध कर रहे हैं

अखिर क्या हैं CAA का फायदा

जिस CCA ( Citizenship Amendment Act ) का आज भारत मे विरोध चल रहा है अगर देखा जाये तो इसका सबसे बड़ा फायदा उनका ही है या यूं कहें कि हर भारतीय को CAA से फायदा मिलेगा आइये जरा विस्तार से समझते है।

पहले तो हम शरण का पूरा मतलब समझते है। मान लीजिए आपका एक घर है जिसमे आपका परिवार बहुत ही आनंद से अपना जीवन व्यतीत कर रहा है हम उसे अपने देश भारत से संबोधित कर रहे है। अब आपका घर है उसके आसपास में किसी अन्य परिवार के भी घर होते है जिसे हम भारत के पड़ोसी देश से संबोधित करेंगे।

मान लीजिए एक दिन ऐसा होता है आपके पड़ोसी घर मे किसी प्रकार की घटना हो गयी और उसका एक सदस्य को उसके घर से निकाल दिया गया। कहाँ जाता है कि पड़ोसी अपना पहला रिस्तेदार होता है और आपने ये समझ कर की यार वह क्या करेगा कहाँ जाएगा और जब तब उनके परिवार में सब कुछ सही नही हो जाता तबतक उसे अपने घर मे शरण दी।

अब कुछ दिन गुजरे आपके पड़ोस में अब शांति का वातावरण है पर वह शरणार्थी आपका घर छोड़ उसके घर नही जा रहा तो आप सोचोंगे की कोई बात नही कल चला जायेगा पर वह जाये ही नही और आपके कहने के बाद यू कहे कि में नही जाऊंगा अब ये ही मेरा घर है तो आप क्या करोगे? आपको तब अपने आप पर ऐसा गुस्सा आएगा और उसे लात मारकर अपने घर से विदा करोगे क्योकि आपने उसके जरूरत के समय उसकी जरूरत समझी।

उसको अपने घर के भोजन में से हिस्सा दिया, सोने के लिए बिस्तर की व्यवस्था की, अपने परिवार को सुविधाओं से वंचित रख उसको पहले सुविधा प्रदान करी, उसको अपने घर मे शरण दी और आज आपको ये दिन देखना पड़ा।

इसलिये शरण देने का मतलब ये है कि उसके तकलीफ के समय मे उसकी मदद करना ना कि उसको अपने घर का सदस्य बनाना। इसमे मैने आपको किसी भी धर्म, जाती या सम्प्रदाय का उल्लेख नही किया अब आप इसे अपने पक्ष में गलत समझे तो ये किसी कानून या राजनीति की गलती नही है।

भारत मे रहनेवाला हर नागरिक चाहे वह हिन्दू हो या मुसलमान, शिख हो या ईसाई, एक परिवार ही है अगर आपके इस परिवार में कोई ऐसा व्यक्ति आता है जो आपकी सुविधाओं और व्यवस्था को ही अपना समझे तो आपको ऐसे व्यक्ति को शरण देने के उपरांत अपने आप को उस परिवार का ही हिस्सा समझे तो आपको उसको अपनी औकाद दिखानी होगी चाहे वह किसी भी धर्म का हो।

CAA का फायदा अगर आप जाने तो भारत सरकार द्वारा दी गयी सुविधाये जैसे कि पानी, खाना, योजना का लाभ, या कुछ भी जो जीवन जरूरी है उसके सिर्फ आप हकदार होंगे यानी कि आपकी चीज में कोई हक नही मार सकेगा।

सभी भरतियो से निवेदन :

भारत के सभी धर्म से निवेदन है की आप सब भारत देश का एक परिवार हो और अभी जो  CAA ( Citizenship Amendment Act ) लागु किया है वह दूसरे परिवार से अपने परिवार के बचाव की वजह से लिया गया है और दूसरे परिवार के लिए अपने घर में देश और लड़ाई झगड़े का माहौल बनाना मूर्खता ही होगी इसलिए सभी धर्म से हाथ जोड़ कर अपील है की शांति का माहौल बनाये रखे।

अगर आपको इस CAA Bill और NRC Bill से कोई भी परेशानी हैं तो आप सरलता, प्यार से बात करके इसे सुलझा सकते हैं, इसके लिये आप Court का सहरा ले सकते हैं। आप किसी भी तरह की हिंसा मत करे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.