Hawala क्या है ? हवाला कारोबार कैसे होता है ?

अगर आपने हवाला ( Hawala ) जैसे शब्दों को सुना हो तो आपके मन मे यह बात जरूर आती होगी कि आखिर ये Hawala Kya Hai ? इस पोस्ट में आप ये भी समझेंगे की Hawala Karobar Kaise Hota Hai ?, तो आइये समझते है What is Hawala In Hindi.

Hawala

जैसा कि आप जानते है भारत एक Tax Payer देश है जहाँ कई लोग अपनी कमाई का कुछ हिस्सा भारत सरकार को Income Tax के नाम पर देते है। पर क्या आप जानते है यह टैक्स लगभग नागरिक द्वारा कमाई की गई रकम में से लगभग 50 प्रतिशत हो जाती है।

भारत मे जितने भी बड़े उद्योगपति तथा जनता यह टैक्स देती है और उसी पैसो को सरकार जनता तथा देश के विकास में खर्च करती है। इसी पैसे से कोई महामारी के समय मुफ्त इलाज होता है, गरीबो को 2 रुपये प्रति किलो गेंहू दिया जाता है तथा अन्य अच्छे कार्य सरकार करती हैं। यह Tax देना अनिवार्य भी है क्योंकि यही पैसा हमारे राष्ट्र एवं देश के हिट में उपयोगी होता है

यह सब सुनना अच्छा लगता है परंतु जो लोग अपनी महेनत से पैसा बनाते है उनके लिए यह Tax एक सिरदर्द समान लगता है। उनको यह लगता है कि महेनत हम करे और ऐसे ही सरकार को Tax के रूप में अपना हिस्सा क्यो दे? परंतु आप जानले की अगर कोई टैक्स नही देता है तो Tax देनेवाला वही पैसा Black Money हो जाता है। यानी कि Tax Pay नही करने पर जो पैसा होता है उसे Black Money कहाँ जाता है।

कुछ लोग अपना पैसा सरकार को Tax के रूप में नही देना चाहते इस लिए सरकार के सामने Tax के दायरे में नही आने का कारनामा करते है और वह Tax बचा लेते हैं। परंतु उस छुपाये हुए पैसो को भी संभालना बहुत कठिन काम होता है। क्योंकि अब उस पैसो को रखे तो कहां रखे क्योकि बैंक में तो डाल नही सकते क्योंकि आधार कार्ड और पैन कार्ड को जीतने भी बैंक एकाउंट है उससे लिंक होता है।

तो उसी Black Money को White Money बनाने के लिए कुछ न कुछ तो करना होगा न? जिसमे Money Loundring और Hawala जिसके जरिये उस पैसो को सरकार की नजर से छुपा लेते है। Money Loundring को हम बाद में समझते है आये पहले समझे हवाला क्या होता है?

Hawala Kya Hai ?

Hawala System : पहले के समय मे आपको पता हो तो पैसो को एक जगह से दूसरी जगह सुरक्षित चोर डाकुओं से बचाकर भेजने के लिए हुंडी प्रथा अस्तित्व में काम आती थी जिसमे एक नगर के नागरिक नगरशेठ के पास पैसा जमा करवाते और एक पर्ची पर उस पैसो की रकम लिखकर वापस उन व्यक्ति को देते थे।

जब वे व्यक्ति दूसरे नगर में जाते तब व्यक्ति वहाँ के नगरशेठ को वह पर्ची बताकर, देकर वह राशि प्राप्त कर लेते थे, अब नगरशेठ से नगरशेठ का हिसाब बाद में कर दिया जाता था क्योंकि यह प्रक्रिया दोनों तरफ बराबर होती थी। इसे हुंडी प्रथा के नाम से जाना जाता था और इस प्रक्रिया दरमियान वह जो पर्ची थी उसे हुंडी कहाँ जाता और वही एक सबूत था कि प्राप्त करने पर राशि दी गयी है।

यहाँ पर भी जहाँ पैसो को एक जगह से किसी दूर की दूसरी जगह भेजना होता है वहाँ हवाला का नाम अक्सर सामने आता है। ज्यादातर यह एक देश से दूसरे देश में पैसा भेजने के लिए Hawala काम आता है। आप इसे हुंडी का भी उदाहरण दे सकते हो। आये विस्तार से समझे।

Hawala Karobar Kaise Hota Hai ? :

Hawala ki puri jankari : आप यह तो समझ चुके होंगे कि आखिर हवाला क्या होता है आये यह भी समझे कि हवाला कारोबार कैसे होता है ?

मान लीजिए दूर बैठे संजय जोकि देश से बाहर रहता है उसे रमेश को 10,00000/- रुपये देने है। अगर संजय रमेश के बैंक एकाउंट में 10,00000/- रुपये ट्रांसफर करता है तो रमेश को यह राशि तो मिलेगी परंतु अब रमेश को सरकार के नियम के अनुसार Tax Pay भी करना पड़ेगा।

तो 18% GST ( यह कम भी हो सकती है ) + 30% Income Tax + 2% Bank Fees को लेकर लगभग 35% से लेकर 50% टैक्स लगता है। 50% टैक्स के हिसाब से आधी राशि तो सरकार ले लेगी क्योंकि आधार और पैनकार्ड बैंक खाते से लिंक है। यानी कि देश मे बैठे रमेश को 5,00000/- ही मिलेंगे।

Hawala Ke Fayde :

अगर रमेश टैक्स नही देगा तो वह राशि काला धन हो जायेगा। तो यह काला धन जो सरकार को देने है उसे बचाने के लिये संजय और रमेश हवाला करनेवालो के पास जायेंगे जो एक प्रकार का धंधा ही है। तो क्या होगा संजय उस देश मे बैठे हवालावाले के पास जाकर उसको 10,00000/- दे देगा और उसे कहेगा कि मुजे यह पैसे भारत मे रमेश को पहुचाने है। तो वह हवाला वाला संजय को एक पासवर्ड या कॉड दे देगा।

अब संजय रमेश को पासवर्ड या कॉड दे देगा जिसकी मदद से भारत मे बैठा हवाला एजेंट पासवर्ड या कॉड लेने पर उसे वह राशि दे देगा। अब यह काम सरकार की नजर में दिखाई देगा ही नही तो अब रमेश को टैक्स पे करना नही होगा।

अब आपके दिमाग मे यह सवाल जरूर आएगा कि इतनी माथा पच्ची करने के बाद हवाला करनेवालो का क्या फायदा ? तो समझे कि उनका भी कुछ रुपयों पर कमीशन होता है जैसे कि मान लेते है कि हवाला करनेवालो ने इस काम के लिए 50,000/- से लेकर 1,00000/- तक का कमीशन लिया फिर भी रमेश को 9,00000/- रुपये प्राप्त हुए मतलब की 4,00000/- का तो फायदा ही हुआ न।

Hawala करने पर भरोसा:

संजय ने सिर्फ एक पासवर्ड या कॉड के सामने 10,00000/- रुपये दे दिए। आपको यह सुनकर जरा अजीब तो लग ही रहा होगा कि क्या इन हवाला वालो पर इतना भरोसा कैसे? तो आप समझे की हर धंधे का उसूल और भरोसे पर ही धंधा चलता है। तो हवाला वाले उनके कमीशन को काटने के बाद पूरा पैसे दी गयी जगह पर पहुँचाकर आते है। अगर एक बार भरोसा चला गया तो दूसरे कोई और हवाला करेगा नही जिससे उन्हें कमाई हो। इसलिए यह काम एकदम भरोसे पर ही चलता है।

पर सुनिये भले ही संजय ने हवाला द्वारा रमेश को 10,00000/- भेज दिए जो यहाँ रमेश को हवाला कमिशन काट 9,00000/- हाथोहाथ मिल गए जिसपर सरकार की नजर पड़ी ही नही परंतु वह 10,00000/- रुपये अभी तक भारत मे पहुँचे नही है। इसे तो अभी भारत मे रहनेवाले हवाला एजेंट तक पहुचाने बाकी है। अगर इसको भी बैंक एकाउंट में हवाला वाले देते है तो यह भी Tax के दायरे में आते है। तो यह पैसे अब पहुचायेंगे कैसे ?

यह काम Money Loundring द्वारा होता है। अब यह Money Loundring Kya Hota Hai ? Money Loundring के लिए विस्तार से दूसरी पोस्ट में समझेंगे। यह पोस्ट केवल Hawala के लिए ही रखते है। जो आप समझ गये होंगे।

निष्कर्ष :

इस पूरी पोस्ट में आप आसान भाषा मे समझ चुके होंगे कि Hawala क्या होता है ? हवाला कारोबार कैसे होता है ? हमे आशा है कि इस विषय को आप समझ गये होंगे। फिर भी आपके कोई सवाल है तो हमे जरूर कमेंट करे यह भी बताए Hawala के बारे में जानकारी आपको कैसी लगी ? पोस्ट को पूरा पढ़ने हेतु आपका दिल से धन्यवाद। आपका दिन शुभ रहे।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.