Computer के Input Devies और उसके प्रकार

आपने अक्सर Computer Input Devices का नाम तो कई बार सुना है, परंतु इसके बारे में अनजान होंगे और जानना चाहते है की इसकी इनपुट डिवाइस क्या है?  इससे हम बहुत सारे काम आसानी से कर सकते है। इस लिये इस प्रकार के functions of input devices के बारे में सबको पता होना ही चाहिये, इस पोस्ट में हम आपको input devices of computer के बारे में बतायेंगे।

ये भी देखे: Computer क्या है? और ये कैसे काम करता है

आप में से हर कोई आज Computer या Laptop का उपयोग करता ही होगा। पर क्या कभी उसके साथ जुड़े उपकरण के बारे में जाना है? ये उपकरण Input devices या Output devices के नाम से पहचाने जाते है। इसमें से हम आज आपको इनपुट डिवाइस और इसके प्रकार के बारे में विस्तार से बतायेंगे। तो आइये जानते है इनपुट डिवाइस क्या है?

Input Devices क्या हैं? (What is Input Devices In Hindi)Computer-Input-device

जिस उपकरण द्वारा हम अपने कंप्यूटर में किसी भी चीज को इनपुट करते है उस उपकरण को Input devices कहा जाता है, यह एक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस होता है जो की कंप्यूटर का एक भाग होता है, अलग अलग input devices अलग अलग काम करते है, जैसे की Kyeboard के द्वारा कोई Text Data इनपुट करना जब की Mouse द्वारा आसानी से स्क्रीन पर क्लिक करना,

इन Input Device द्वारा हम Computer से कुछ भी काम आसानी से करवा सकते है, इसके द्वारा हम कंप्यूटर को सुचना प्रदान करते है और फिर कंप्यूटर उस सुचना को समज कर उसे कार्य में परिवर्तन करता है। असल में ये इनपुट डिवाइस एक Hardwar होते है जो कंप्यूटर के साथ मिलकर काम करता है और काम को आसान बनाते है।

ये भी देखे: Computer Memory और उसके प्रकार

Input Device के प्रकार होते है जैसे की Mouse,Micropone,Scanner,Keyboard वगैरा, अब हम आपको इन इनपुट डिवाइस के बारे मे विस्तार से बतायेंगे।

Type Of Input Devices:

अब हम आपको different types of input devices के बारे में यानि की types of input devices for computers के बारे में विस्तार से बात करेंगे तो आइये जानते है कंप्यूटर के इनपुट डिवाइस के प्रकार

1. keyboard:

ये डिवाइस सबसे अधिक उपयोग होनेवाला Input Device है, Keyboard के द्वारा हम कंप्यूटर में किसी संख्या (Numbers), अक्षर (Alphabets) या फिर किसी विशेष करेक्टर्स को आसानी से इनपुट किया जाता है। Computer को किसी विशेष कार्य को आदेशित करने के लिये भी कीबोर्ड का उपयोग किया जाता है कीबोर्ड में संख्या(Numbers), अक्षर(Alphabets) के बटन होते है जिसके द्वारा Text और Numerical डाटा को इनपुट किया जाता है। जैसे की 1-0 और A-Z.

Keyboard के ऊपर कई तरह की Editing Keys और Function Keys होती है जिसका उपयोग कर सीधे फंक्शन को शुरू किया जा सकता है। CapsLock/Number Lock/Scroll Lock Key इन सबको टॉगल Key कहा जाता है जिसका इस्तेमाल किसी विशेष फीचर को ON/OFF करने के लिये होता है। Ctrl/Alt Key को दूसरी Key के साथ कॉम्बिनेशन याने की साथ में प्रयोग की जाने की वजह से इसे Combination Key भी कहा जाता है। ऐसे कीबोर्ड को CPU से USB के माध्यम से जोड़ा जाता है, आजकल वायरलेस कीबोर्ड भी मार्केट में उपलब्ध है।

ये भी देखे: wifi range extender क्या है और ये कैसे काम करता हैं।

2. Pointing Device:

ग्राफिकल यूजर इंटरफ़ेस (GUIs) जो स्क्रीन पर Cursor की स्थिति बताने के लिये पॉइंटर डिवाइस की आवश्यकता होती है, इसके प्रकार की बात करे तो माउस,ट्रैकबॉल,टच पैड,ट्रैक बिंदु,ग्राफ़िक्स टेबलेट,टचस्क्रीन और जॉयस्टिक इसके प्रकार है, इनके बारे में भी थोड़ा जान लेते है।

  1. Mouse: ये सबसे उपयोगी और लोकप्रिय Device है जिसको हर कोई जानता है और उपयोग करता है जो यूजर एक हाथ से कार्य में लेता है, पुराने समय में माउस के नीचे की सतह में एक Rolling Ball हुआ करती थी जो मूवमेंट को सेंस करके माउस को Cable के माध्यम से Computer को संचारित करते थे। आज के समय में Optical Mouse का प्रचलन ज्यादा है जिसमे Rolling Ball के स्थान पर एक प्रकाश और छोटे छोटे सेंसर का उपयोग होता है जो मेज की सतह के एक छोटे से भाग से Mouse की Movement का पता लगाने के लिये इस्तेमाल होता है। यह Wireless Mouse Radio Waves के माध्यम से Computer के साथ Communications बनाये रखता है।
  2. Touchpad: आजकल सभी Laptop में Touchpad देखने को मिल जाता है, जिससे यूजर उसकी सतह पर ऊँगली का उपयोग कर (फिराकर या फ़िसलाकर) स्क्रीन के Cursor को Move कर सकता है,Pad की नीचे की तरफ लेफ्ट एवं राइट बटन होते है,जिसका उपयोग बहोत कम होता है, Touchpad एक स्थिर Device है इसमें कोई Moving Part नही होता।
  3. Track Point: ये एक छोटे Joystick की तरह काम करता है। Cursor की स्थिति को नियंत्रण करने के लिये Track Point का उपयोग होता है।
  4. Trackball: ये भी Mouse के जैसा ही होता है। इसमें Ball ऊपर की तरफ होती है। Trackball को रोल करने के लिये हमे उंगलियों का इस्तेमाल करना होता है। इसमें रहे आंतरिक रोलर्स इन सारी Movement को सेंस कर दिये गये निर्देशों को Computer तक पहोचाते है। ट्रैकबॉल Desk पर स्थिर होती है, इसलिये इसका उपयोग करने के लिये बहुत ज्यादा जगह की जरूरत बी नहीं पड़ती, आजकल Optical Trackball बाजार में उपलब्ध है जिसमे रोलर्स की जरूरत नहीं होती, Optical Trackball में रोलर्स के गंदे होने की समस्या नहीं होती है।
  5. Joystick: इस प्रकार के Device आप Game User के लिये ज्यादा उपयोगी है,इसको Pointer Device के रूप में Computer से जोड़ा सकता है। इसको Use कर आप Game के केरेक्टर को आगे-पीछे या फिर ऊपर-नीचे कर सकते हो।
  6. Graphics Tablet: इसमें Electronics Writing Area होता है,ग्राफ़िक्स टेबलेट में Special Pen का उपयोग होता है। इससे कोई भी आर्टिस्ट Graphical image बना सकता है और उसमे Motion भी Add कर सकते है। इसमें उपयोग होने वाला Special Pen दबाव के प्रति बहुत संवेदनशील होने के कारण कम या ज्यादा दबाव पड़ने पर अलग अलग Size के Brush का उपयोग आसानी के साथ कर पाते है।

>Google क्या है और किसने बनाया है, ये कैसे काम करता हैं?

3. Scanner:

स्कैनर द्वारा Printed Page या Graphic का Digitization होता है,उसको बारीक़ Pixels वाली Image में Brightness और Color के साथ Transfer कर कंप्यूटर को संचारित(Transmit) करता है। इसमें Laser Technique का उपयोग होता है। स्केनर द्वारा किसी भी तरह की Informetion को Electronic Formet में रूपांतर होता है, किसी भी प्रकार की इन्फोर्मेशन जैसे की कोई भी चित्र,टेक्स्ट,या फिर प्रिंटेड पेज,आदि को Scan करने की क्षमता स्कैनर में होती है और स्कैन करने के बाद इस इन्फोर्मेशन को कंप्यूटर में स्टोर किया जा सकता है तथा प्रिंटर द्वारा प्रिंट आउट निकाला जा सकता है।

4. Midi Device:

Midi का Full Form “Musical Instrument Digital Interface” है,ये एक ऐसी प्रणाली है जो इलेक्ट्रॉनिक संगीत वाद्य के बीच Information प्रसारित करती है। इसके मदद से Midi Keyboard को Computer से जोड़कर कलाकार द्वारा संगीत को पकड़ कर प्ले किया जा सकता है।

5.MICR:

MICR का पूरा नाम magnetic ink character reader है, इसके द्वारा करैक्टर पहचाने जाते है जिसका उपयोग Banking क्षेत्र में Processing को कम करने तथा चेक और अन्य दस्तावेजों की क्लियरिंग में सबसे ज्यादा देखने को मिलता है। इसके द्वारा MICR Code करैक्टर को Digital Data में बदला जाता है जो Computer द्वारा आसानी से समजा जाता है।

6.OMR:

OMR जिसका पूरा नाम “Optical Mark Reader” है। आपने कभी न कभी वह परीक्षा दी होगी जिसमे पेन द्वारा सही जवाब वाले गोले को पूरी तरह भरना होता है, ये तकनीक द्वारा उत्तर पुस्तिका को Scan कर डाटा को इनपुट किया जाता है और उसके आउटपुट के रूप में हमे परिणाम मिल जाता है, ये एक प्रकार का विशेष Scanner होता है जो Pen या पेन्सिल द्वारा किये गये निशान को पहचान करने की शक्ति रखता है,ये तकनीक सर्वे,परीक्षा और चुनाव में भी उपयोग की जाती है।

7.OCR:

OCR का Full Form optical character recognition है, ये मशीन Uncoded फॉर्म में Images की Text (Printed हो या हस्तलिखित का इलेक्ट्रॉनिक डाटा में Transfer करता है,व्यापक रूप से स्वचालित डाटा एंट्री के लिये OCR का उपयोग किया जाता है। इसका उपयोग कर डाटा को स्कैन करके Digital form में ट्रांसफर किया जाता है जैसे की Passport documents,Bank invoice,Bank Statement,Computerized receipt,Business Card,Mail आदि, इसके द्वारा प्रिंटेड टेक्स्ट को डिजिटाइज किया जा सकता है।

8.Barcode Reader:

ये एक वस्तु को मशीन द्वारा विशिष्ट रूप से पहचानने का एक तरीका है। किसी भी चीज या वस्तु पर उसको पहचानने के लिये उसपर एक कोड लगाया जाता है,जिससे बारकोड रीडर (Barcode Reader) द्वारा आसानी से पढ़ा जाता है,ये Code सामान्यतह लाइनों के रूप में आप देख सकते हो,आपने शॉपिंग मॉल में बिल बनाते समय इसका उपयोग देखा होगा,

इसके द्वारा वह चीज क्या है उसकी गणना आसानी से हो जाती है, और उसकी पूरी जानकारी भी हम कंप्यूटर में देख सकते है। एक विशेष हैंडहेल्ड डिवाइस जो की कंप्यूटर से जुड़ा होता है इसके द्वारा एक लाल लाइट उस बारकोड पर डाली जाती है वह बारकोड स्कैन करता है और कंप्यूटर उस बारकोड की भाषा को समजकर उसे स्क्रीन पर दिखाता है।

9. Microphone:

इसे speech recognition devices द्वारा भी पहचाना जाता है, ये भी एक प्रकार का इनपुट डिवाइस है,इसका उपयोग Audio Data को Computer में इनपुट करने के लिये होता है। यह एक Wire से कंप्यूटर के साथ जुड़ा हुआ होता है जिसमे एक Mouthpic Device को Audio कैप्चर करने के लिये उपयोग किया जाता है।

10.Webcam:

आपने वेबकेम को देखा ही होगा। ये एक Digital Camera होता है जो Computer से जुड़ा हुआ होता है, इसके द्वारा कंप्यूटर में कमरे द्वारा ली गयी तस्वीर या वीडियो आसानी से देख सकते है,Digital Camera इनपुट वस्तु पर Focus कर कोई Picture लेता है और फिर ली गयी Picture को Digital रूप में डाटा transfer कर कंप्यूटर में भेजता है और Computer दवारा उसे समजकर स्क्रीन पर दिखाई देता है।

तो ये थी कुछ ऐसे Input Devices जिसका उपयोग हम रोजमर्रा की लाइफ में करते ही है.functions of input devices भले ही हमे पता ना हो पर input devices used in computer हम बिलकुल जानते है।

नया क्या सिखा

इस पोस्ट द्वारा हमने आसान भाषा में Computer के Input Device और उसके प्रकार के बारे में विस्तार से जाना और जाना की Computer Input Device Kya Hai? (What Is Input Device In Hindi) |

हमने Computer के Input Device से सम्बंधित विस्तार से जानकारी देने के प्रयास किया, आशा करते है। आपको येे पसंद आयी होगी अगर आपको इस पोस्ट के सम्बंधित कोई सवाल है तो हमे जरूर कमेंट करे। हम आपके सवाल का संतोषपूर्वक जवाब देने का प्रयत्न करेंगे। आपको हमारी पोस्ट कैसी लगी हमे जरूर बताये।

हमारी हमेशा से बस यही कोशिश रही है की मैं हमेशा अपने सभी दोस्तो की हर तरह की हेल्प करूँ, आपको हमारी ये जानकारी जरूर पसंद आयी होगी, यदि आप लोगों को हमारी जानकारी Input Device आपको यह Post कैसा लगा हमें comment लिखकर जरूर बताएं ताकि हमें भी आपके विचारों से कुछ सीखने और कुछ सुधारने का मोका मिले. मेरे पोस्ट के प्रति अपनी प्रसन्नता और उत्त्सुकता को दर्शाने के लिए,

कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि WhatsApp, Facebook, और Twitter इत्यादि पर share कीजिये, तो मिलते है कोई अन्य जानकारी के साथ। पोस्ट को पूरा पढ़ने के लिये दिल से धन्यवाद।

The Power OF Digital INDIA

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.