शानदार करियर के लिये विकल्प मे Engineering कैसे करे तैयारी

Hello friends,  जैसे कि हमने last आर्टिकल How to choose career में आप से ये वादा किया था। कि हम आपको jobs के अलग-अलग options से रूबरू करेंगे, तो उसी सिलसिलें को आगे बढ़ाते हुए आज हम आपको उस करियर option के बारे में बतायेंगे जो हर बच्चे-बच्चे के जुबान पर होता हैं। हमारे दादा-परदादा के जमाने से, अबतक का सबका favorite करियर option है। जी बिल्कुल सही सोचा आपने “Engineering”

अगर घर में किसी छोटे बच्चे से भी पूछो , कि तुम्हे बड़े होकर क्या बनना है? तो सामने से बस दो जवाब मिल सकते हैं। Doctor या Engineering, पर वो तो वही बोलेंगे, जो वो सुनेंगे, ये एक नियम है कुदरत का, हम वैसे ही बनते जाते हैं जैसा हमारे आस-पास का atmosphere होता है इसके बावजूद हर इंसान में कुछ hidden qualities होती हैं। उन qualities को पहचान कर। उनपर अगर कोई काम करें ना, तो वो उस इंसान को सबसे अलग बना देता है, जैसे की इस आर्टिकल में हम इंजीनियरिंग option के बारे में बात करने वाले हैं। तो उसी के बारे में जानते है।

Engineer बनने के लिए कौन से गुणों की आवश्यकता होती है ?

अक्सर हम students को देखा करते हैं कि, वो हमेशा करियर choose करते समय, ये देखते है कि, कौन से subject में उन्हें ज्यादा मार्क्स मिले है इंजीनियरिंग में तो ये हमेशा होता ही है। अगर किसी को mathematics में ज्यादा marks मिलते है तो उन्हें ऐसा लगता है की, इंजीनियरिंग उनके लिए best option है और इसीके basis पर लोग, friends भी उन्हें सलाह देते है। तुम्हे maths में अच्छे marks है, मतलब तुम तो Top करोगे Engineering में!

लेकिन इसपर भी तो गौर करना जरुरी है कि, अगर किसी को 100 out of 100 भी मिल रहे है maths में तो वो किस तरह पढ़कर मिले है normally 12th तक बच्चे अलग अलग classes लगाते हैं, normally क्लासेस के या फिर स्कूल के teachers उनके अपने experience से students  को guide करते रहते हैं कि, किस टाइप के सवाल exam में पूछे जा सकते हैं। तो student भी वही follow करते हैं। क्योंकि exam में उन्हें अच्छे अंकों से पास होना होता हैं।

Education system :-

after all हमारा education system ही ऐसा है कि, जहाँ हमारी काबिलियत हमे exam में मिलें rank पर depend होती हैं पर कुछ ऐसे students भी होते हैं, जो exam, marks इन सबसे परे, problems को ढूंढ-ढूंढ कर उसका solution निकालते हैं।

जिंदगी में कई तरह के problems हो सकते हैं। फिर चाहें वो स्कूल के हो, घर के या फिर जहाँ हम रहते हैं, उस समाज के क्यूँ ना हो। depend करता है कि, हमारा उन problems की तरफ देखने का नजरिया कैसा है।

जैसे अगर मैं thinker, observer हूँ तो मैं Arts में career बना सकती Any kind of art. अगर आप debate अच्छा कर लेते हो तो, law, politics में अच्छा career है, Communication अच्छा है तो speaker, Anchor बन सकतें हैं, और अगर आप में हर existed चीज़ के पीछे कि technicalities के बारे में जानने की curiosity है,  अलग अलग experiment करना पसंद है। तो आप एक अच्छे engineer बन सकतें हैं।

How to prepare for engineering (कैसे करे तैयारी )

हम 10th या 12th के बाद engineering के लिए apply कर सकते हैं। 10th के बाद government या private collage में 2 years का डिप्लोमा करके फिर 3 years की डिग्री कर सकते हैं। या तो फिर 12th के बाद engineering entrance exam देकर हम IIT, NIT या  फिर State Level पर जो entrance exam होते हैं उन्हे देकर भी Admission ले सकते है।

हर student का ये Dream होता है कि, अगर वो इंजीनियरिंग की पढाई करे, तो IIT जैसे Institutions से, पर जितना बडा dream, उतनी ज्यादा मेहनत, लगन, और concentration की जरूरत होती है Normally IIT-JEE की entrance exam में अच्छा rank लाने के लिए students class 10th से ही उसकी preparation  शुरू कर देते हैं। but अगर आपको ये exam crack करना हो तो, maths और science के basics आपके clear होने चाहिये, अगर आपके सारे concepts clear हो तो आप ये exam आसानी से crack कर सकते है।

अगर IIT मे admission नहीं मिलता :-

अगर किसी वजह से IIT Institutions में admission नहीं मिल पाता है, तो NIT is a good option, और अगर वहा भी ना मिले तो फिर भी निराश होने की जरुरत नहीं है, हर cities में कई Government और Private Institutions होते है जहा आप admission ले सकते हैं। इन collages में तो CET का exam देकर भी admission ले सकते हैं।

बाकी admission लेने के बाद, जो 4 years का सफर होता हैं उसमे सबको खुद के बारे में पता चल ही जाता है कि, किस तरह से वो आगे बढ़ सकते हैं सच में वो इस field में आगे बढ़ना चाहते हैं, या फिर कुछ और करना चाहते हैं।

After completion of engineering ( Engineering होने के बाद)

अगर हम बात करें तो, हर साल engineering collage से इतने students, degree लेकर बाहर निकलते हैं कि, हर students को एक अच्छा जॉब मिलना काफी मुश्किल होता जा रहा है सवाल तो quality of knowledge पर भी उठता है पर इसके लिये दोषी कौन है? Education system, particular institute या फिर वो student, जिसने चार साल एक particular field की पढ़ाई की हो लेकिन वो खुद भी sure नहीं की उस knowledge को वो कई practically apply भी कर सकता है।

इसी एक डर की वजह से वो student अपना confidence खो देता है और जो knowledge उसके पास है, उसे भी वो अच्छे से use नहीं कर पात, और फिर उसके दिलों-दिमाग पर तेज़ी से बढ़ती advertising का, friends, family की बातों का असर होने लगता हैं कोई कहता है java के लिये क्लासेस लगा लो, तो कोई कहता है CCNA करलो, तो कोई कहता है C-DAC करलो और फिर हम भी उसी तरह से सोचने लगते हैं, जैसी हमे सलाह मिलती है।

जॉब ना मिलने का टेंशन, family pressure, जो चार साल और उसके साथ जो पैसा गया, इन सारी बातों कि फ़िक्र के चलते, औरों की सलाह लेकर कोई भी एक course कर लेते हैं, और उसी direction में आगे बढ़ते हैं. जिनकी family supportive होती हैं, जिनमे passion होता है, और पढ़ने की चाह होती है, वो M.Tech, MBA, M.E करते हैं, या फिर government jobs की preparation करते हैं।

Don’t take it negatively,

मैंने just आपके सामने fact रखने की कोशिश की है। क्योंकि हर career अच्छा होता है, अगर हमे उस particular field का knowledge gain करने में और उसे apply करने में interest हो, इसीलिए ये जानना बहुत जरुरी है कि,  हमारा interest किसमें हैं। और खुद से अच्छा तो हमे कोई जान हि नहीं सकता।

Don’t be a degree holder,  try to become skillful person 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.