SGB Kya Hai ? SGB कैसे खरीदे ? Full Details of SGB In Hindi.

क्या आप जानते है SGB Kya Hai ?, SGB Kaise Kharide ?, Gold Me Nivesh Kaise Kare ?, SGB Ke Fayde Kya Hai ? SGB Maturity Period कितना है? अगर नही तो इस लेख में आप SGB In Hindi के बारे में पूर्ण जानकारी समझेंगे। आइये समझते है What Is SGB Hindi Me.

SGB Kya Hai ?

SGB एक गोल्ड मोनेटाइजेशन स्कीम है जिसकी शुरुआत नवंबर 2015 से रिजर्व बैंक और भारत  सरकार द्वारा की गई थी थी। एसजीबी एक सरकारी सिक्योरिटी है। यह स्कीम हमेशा के लिए किसी के लिये उपलब्ध नही होती। इस स्कीम को भारत सरकार और रिजर्व बैंक द्वारा लाई जाती है। इस स्कीम में निवेशकों को सोने में निवेश करने का मौका प्रदान किया जाता है। परन्तु इस स्कीम में मिलने वाला सोना प्रत्यक्ष ना होकर भौतिक होता है। मतलब की डिजिटल होता है जिसका एक बांड पेपर व्यक्ति को प्रदान किया जाता है।

SGB Full Form Kya Hai ?

आपको बतादे की SGB का पूर्ण नाम Sovereign Gold Bond है। Sovereign Gold Bond को संक्षिप्त में एसजीबी कहाँ जाता है।

SGB Ke Fayde :

सोना हर समय लोगो का चहेता रहा है। ज्यादातर लोग गोल्ड में ही अपना निवेश करते है क्योंकि यह भरोसेमंद भी रहा है और समय समय पर सोने ने एक अच्छा रिटर्न भी प्रदान किया है। परंतु एक गहना और एसजीबी के एक निवेशकर्ता के तौर पर ज्यादा फायदे हो सकते है जो निम्नलिखित है।

NO Risk :

अगर आप सोना खरीदते हो तो सोना आपके घर पर पड़ा रहता है जो गुम या चोरी हो सकता है। जिसकी एक चिंता हर किसी को होती है क्योंकि काफी महेनत से पाई पाई इकट्ठा कर खरीदा होता है। पर Sovereign Gold Bond Scheme में आपको एक पेपर को ही सँभालना होता है। जो समय चलते सोने के भाव बढ़ने पर कभी भी निकाल सकते हो। और इसमें किसी भी प्रकार के रिस्क से छुटकारा मिल जाता है।

संभालने में आसानी :

अगर आपके पास सोना है तो आप इसे सभालने के लिए किसी बैंक लॉकर या किसी अन्य चीज़ का प्रयोग करते हो। जिसके लिए आपको कुछ फीस चुकानी होती है। परंतु एसजीबी में आपको ऐसा कुछ भी करने की जरूरत नही होती। इसमें आपके पैसों को बचत होती है।

Real Value

अगर आप सोने का आभूषण पहनने के हिसाब से खरीदते है तो आपको इसमें लेबर चार्ज डिजाइन के मुताबिक देना होता होता है ऊपर से आपको सोने में मिश्रित धातु का भी सोने की वैल्यू के हिसाब से चार्ज करना होता है। इसके अलावा आपको कौनसा केरेट का सोना है  उसमें भी नुकसान झेलना होता है। यानी कि आपके सोने की सही वेल्यू आपके पास नही आती।

जबकि आप उसको वापस बेचने जाते हो तो भी सुनार कुछ कुछ गलतियां बताकर उसकी सही वेल्युएशन नही करता और आपको नुकसान झेलना पड़ता है। पर Sovereign Gold Bond Scheme में आप के सोने की रियल वेल्यू तथा 24 केरेट के सोने के हिसाब से की जाती है। ऊपर से आपको GST भी खरीदी पर देनी होती जो एसजीबी में आपको छूट मिलती है।

Return:

जब आप कोई प्रत्यक्ष सोना खरीदते हो तो आपको तभी से नुकसान के सामना करना पड़ता है जैसे कि पहले तो खरीदी दरमियान ही 20-25% अतिरिक्त चार्ज, अब सोना सम्भालने के लिए लॉकर का खर्च, और जब बेचने जाओ तो भी वही नुकशान जो पहले खरीदी दरमियान हुआ था। जब कि एसजीबी स्किम में आपको हर साल कुछ Intrest प्राप्त होता है जो आपके बैंक एकाउंट में प्राप्त होता है। इसके अलावा अगर आपको लगता है कि Gold की कीमतों में बढ़ोतरी हुई है और आपको एसजीबी बेचना है तो बेचकर बाहर निकल सकते हो।

Loan :

जरूरत के समय आप एसजीबी से लोन भी प्राप्त कर सकते हो।

जाने: Truebalance Se Online Loan कैसे ले? True balance Kya Hai Full Detail.

SGB Kaise Kharide :

एसजीबी को आप कई माध्यमो द्वारा खरीद सकते हो। जैसे कि….

– पहला तो है बैंक द्वारा

– दूसरा पोस्ट ऑफिस द्वारा

– तीसरा स्टॉक ब्रोकिंग वेबसाइट तथा ऍप द्वारा

– चौथा ऑनलाइन इसकी ऑफिसियल वेबसाइट द्वारा। जोकि https://m.rbi.org.in/Scripts/BS_SwarnaBharat.aspx है।

बैंक और पोस्ट में आपको खुद जाकर फॉर्म भरकर एसजीबी खरीद सकते हो जो एक ऑफलाइन माध्यम है और आपको मिलनेवाले पेपर को संभालकर रखना होता है। समय होने पर आप इस पेपर को देकर एसजीबी बेच सकते हो। जबकि स्टॉक ब्रोकिंग वेबसाइट से आप कुछ ही समय मे ऑनलाइन यह खरीद सकते हो यह पेपरलेस प्रॉसेस होता है खरीदने के बाद यह आपके Demat Account में आ जाते है।

जाने: GDP Kya Hota Hai ? GDP कैसे निकालते है? Full Detail.

SGB खरीदने के लिए जरूरी डॉक्यूमेंट :

एसजीबी को खरीदने के लिए आपके पास पैनकार्ड होना अतिआवश्यक होता है। इसके अलावा ऑनलाइन प्रॉसेस की खरीदी में आपके पास एक डिमैट एकाउंट होना भी जरूरी है।

SGB Kitna Kharid Sakte Hai ?

Sovereign Gold Bond की खरीदी पर भारत सरकार और रिज़र्व बैंक के कुछ नियम लागू होते है। निवेशक इस एसजीबी स्किम में कम से कम 1 GM और ज्यादा से ज्यादा 4 kg के सोने में निवेश कर सकता है। अगर कोई Trust यहां निवेश करना चाहता है तो वह लिमिट 20 Kg तक कि होती है।

SGB Maturity Period :

अभी तक आपने समझ लिया होगा कि SGB Kya Hai ? और SGB Kaise Kharide ? आइये अब यह भी समझ लिया जाए कि Sovereign Gold Bond Maturity Period का समय क्या है ?

रिज़र्व बैंक तथा सरकार द्वारा Sovereign Gold Bond का मैच्योरिटी पीरियड 8 साल का तय किया गया हैं परंतु अगर निवेशक चाहे तो इसे 5 साल बाद बेचकर मुनाफा कमा सकता है। 8 साल के बाद मिलनेवाली रकम पर कोई टैक्स नही लगता जबकि उससे पहले निकाल ने पर टैक्स देना होता है।

निष्कर्ष :

इस लेख में हमने आपको बताया कि एसजीबी क्या है  ?, एसजीबी कैसे ख़रीदे ?, एसजीबी के फायदे क्या हैं ?, एसजीबी मेच्योरिटी पीरियड क्या है ?, हमे आशा है कि हमारे द्वारा दी गयी यह जानकारी आपको जरूर पसंद आई होगी। अगर इस विषय मे आपके कोई सवाल है या कोई अन्य सुजाव हो तो हमे जरूर लिखे। पोस्ट को पढ़ने के लिए धन्यवाद।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.