राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले से गुस्साए योगी आदित्यनाथ डाली बड़ी बात।

यह देखा जा रहा है कि जब भी चुनाव आते हैं तो उसमें राम मंदिर का नाम जरूर आता है। पिछले कई दशकों से विवाद मिनट के राम मंदिर का फैसला आज आने वाला था और कोर्ट ने उसे आज ना सुना कर इसके लिए अगली तारीख दे दी गई है। देखा जा रहा था कि साल 2019 के चुनाव से पहले राम मंदिर का फैसला आ जाये। राम मंदिर का राजनीति में भी सारी पार्टियां खुलकर प्रयोग कर रही है।

 

पिछले कुछ दशकों से लटके हुए रविवार को सुप्रीम कोर्ट ने फिर से लटका दिया और इस फैसले पर योगी आदित्यनाथ बहुत गुस्सा है। और योगी आदित्यनाथ ने बिना कुछ गलत बोला सामान देते हुए सुप्रीम कोर्ट को खरी-खरी सुनाई उन्होंने कहा कि हिंदू के साथ की हुई नाइंसाफी कभी-कभार तेरे साए फैसला भी काफी अच्छी व्यवस्था को खराब कर सकते हैं और यह हिंदू के साथ हो रहा है।

 

योगी आदित्यनाथ में राम मंदिर और बाबरी मस्जिद देर से आए होते हुए फैसले को साधु संत के मांगों को लेकर ट्वीट किया कि दूसरों से जल्द से जल्द राम मंदिर बनने का इंतजार कर रहे हैं उन्होंने कहा कि राम मंदिर हिंदुओं के लिए नाइंसाफी है। इससे पहले भी कई बार नेताओ ने राममंदिर के विवाद पर काफी कुछ बोले है। यदि राम मंदिर नही बना तो प्रलय आ जायेगा केंद्रीय मंदिर गिरिराज ने यह कहा था।