ये एक आसन पेट से जुड़ी सारी परेशानियों को कर देगा खत्म

asan-yoga

शरीर को फिट रखने के लिए योग का अपना ही अलग महत्व होता है। कई ऐसे योगसन हैं, जिनका रोज अभ्यास करने से शरीर स्वस्थऔर फिट बना रहता है। गोरक्षासन भी ऐसे ही एक आसनों में से एक है। इसके रोज अभ्यास करने से बवासीर और पेट के रोगों में लाभ मिलता है। शरीर की कमजोरी से होने वाले बवासीर, धातुक्षय आदि जैसे रोग दूर होते हैं। मांसपेशियों को मजबूती मिलती है, पाचन क्रिया सही होती है। शरीर के सभी अंग को लाभ मिलता है

किन लोगों को नहीं करना चाहिए गोरक्षासन
  • जिन लोगों के घुटनों में दर्द की समस्या है उन्हें गोरक्षासन नहीं करना चाहिए।
  • अगर एड़ी में दर्द की समस्या है, तो ये योगासन न करें।
  • आंतों के रोगों और थायरॉइड के कारण मोटापा है, तो ये योगासन बिल्कुल न करें।

सही तरीका आसन को करने का 
इस आसन को करने के लिए सांस लेते हुए दोनों घुटनों को मोड़ें और तलवों को आपस में सटा लें। अब सांस छोड़ते हुए दोनों हाथ जमीन पर टिकाकर शरीर ऊपर उठाएं और दोनों पैरों के पंजों पर इस प्रकार से बैठें कि शरीर का वजन एड़ी के ठीक बीच में पड़े। पुनः श्वास भरते हुए दोनों हथेलियों को घुटनों पर रखें। अंत में सांस रोककर ठोढ़ी को छाती से सटाएं। कुछ पल बाद सहज श्वास के साथ सामान्य स्थिति में लौट आएं। घुटने, एड़ी का दर्द या चोट होने पर न करें। मोटे लोग भी न आजमाएं।