बजट 2019 : माध्यम वर्ग के लिए राहत अब नही देना होगा टैक्स 5 लाख तक कि इनकम वाले लोगों को

Budget 2019

नई दिल्ली
मोदी सरकार ने आज अपने कार्यकाल का आखिरी बजट पेश किया। इसे चुनावी बजट भी कहा जा रहा है। केंद्र सरकार ने इस बजट में गांव, गरीब, किसानों, मजदूरों के लिए कई बड़े ऐलान किए। इसमें लंबे समय से प्रतिक्षित आयकर में छूट का ऐलान किया। इस बजट में लगभग हर तबके को कुछ न कुछ देने का ऐलान किया है।

ये भी पढे: छोटे किसानों को सौगात, खाते में हर साल जाएंगे 6 हजार मोदी सरकार

सरकार की उपलब्धियों को गिनाया

वित्त मंत्री ने कहा, ‘मैं भरोसे कह सकता हूं कि भारत बेहत मजबूती से ट्रैक पर वापस आ गया है। देश तरक्की और सम्पन्नता के रास्ते पर चल पड़ा है। हमारी सरकार ने कमरतोड़ महंगाई की कमर ही तोड़ दी है। हमने 2022 तक सभी लोगों को घर देने का वादा किया है। हम दुनिया की छठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गए हैं। रिफॉर्म के बाद सबसे ज्यादा जीडीपी ग्रोथ हुई। हमने राजकोषीय घाटे पर लगाम लगाई है। पिछले पांच साल में एफडीआई में अभूतपूर्व बढ़ोतरी हुई है। हमारी सरकार में दम था कि हमें आरबीआई से कहें कि वे सभी लोन को देखें और बैंकों की सही स्थिति जनता के सामने रखें। सरकार ने एनपीए को कम करने की कोशिश की और उसमें काफी हद तक सफल भी हुए हैं। रेरा के जरिए रियल एस्टेट सेक्टर में पारदर्शिता लाई गई है।’

किसानों के लिए बड़ा ऐलान

हमारी सरकार ने सभी 22 फसलों में लागत से 50 पर्सेंट ज्यादा एमएसपी दिया। हमने किसानों की आय बढ़ाने का ऐतिहासिक काम किया। छोटे और सीमांत किसानों की आय और बढ़ाई जाएगी। 2 हेक्टेयर (करीब 5 एकड़) तक की जमीन वाले किसानों के खातें में हर साल 6 हजार रुपये जाएंगे। करीब 12 करोड़ किसान परिवारों को इससे सीधा लाभ मिलेगा। इसे 1 दिसंबर 2018 से लागू किया जाएगा।

पीयूष गोयल ने दी माध्यम वर्ग के लोगों को एक तोफा दिया, अब 5 लाख तक कि इनकम वाले लोगों को नही देना होगा टैक्स , पहले इसकी लिमिट ढाई लाख रुपये तक थी लेकिन ऐसा करके सरकार ने माध्यम वर्ग के लोगो को चुनाव के चलते अपने पाले में करने की कोशिश की है।

इसी के साथ स्टैण्डर्ड डिडक्शन की सीमा भी 40 हज़ार से बढ़ाकर 50 हज़ार कर दी गई हैं। जिससे बहुत से नौकरी करने वाले लोगो को फायदा हुआ है।

इस घोषणा के साथ ही पूरी संसद में मोदी मोदी के नारे भी लगे जिससे यह पता चलता है कि यह फैसला सरकार के लिए एक बड़ा फायदा बनकर आने वाले चुनावों में उनकी मदद करेग, इसी के साथ एफडी पर जो अमुमल ब्याज मिलता है उस पर भी अब 40,000 तक कोई टैक्स के चलते कटौती नही की जाएगी।

5 फीसदी वाला टैक्स वर्ग

अब 5 लाख से ऊपर इनकम वाले लोगो को 5 फीसदी टैक्स की रकम चुकानी होगी। वही पिछले साल 5 फीसदी टैक्स तभी लगता था जब आपकी इनकम ढाई लाख से ऊपर होती थी।

20 फीसदी वाला टैक्स वर्ग

अगर आप साले के कुल 5 लाख से 10 लाख तक कमाते है तो आपको अपनी इस इनकम का 20 फीसदी टैक्स चुकाना होगा।

30 फीसदी वाला टैक्स वर्ग

आपकी इनकम 10 लाख से 50 लाख होने पर आपको 30 फीसदी टैक्स चुकाना होगा

बाकी के सभी टैक्स कर्म पिछले साल के जैसे ही है

लेकिन अगर आप 80C के तहत आते है तो आपको कोई टैक्स नही देना पड़ेगा। लाइफ इन्शुरन्स , पीपीएफ़ , एनपीएस में और बच्चों के स्कूल फीस ये सभी इसके तहत आते है।

आप हमें नीचे कमेंट करके बता सकते है कि आपको सरकार के इस फैसले से कितनी खुशी हुई है। अगर आपको ये जानकारी पसंद आई हो तो इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर जरूर करें।