सियासत का व्यापार अंधे को चश्मा गंजे को कंघी

politics

सियासत सी विधा है जो गंजे को कंघी और अंधे को चश्मा भेज सकती है खुद ही इस बात की क्षमता से खुद को ही प्रभावित होकर सियासत बालों में कंघी का निर्माण के क्षेत्र में कदम बढ़ाए उनकी नजर गंजों की बस्ती पर टिकी है।

गंजों की बढ़ती तादाद देखकर सियासत की फैक्ट्रियां मैं अब छोटे बयानों वाले अनंत आरोप और आश्वासन बढ़ने के बजाय बड़े पैमाने पर क्या बनाई जा रही है बस कमी थी तो एक कछुए और खरगोश की आप सियासत को हल्के में ना लें अनुपयोगी और आवारा जानवरों से कोई महत्वपूर्ण काम करवाने की अद्भुत क्षमता सियासत में ही पाई जाती है और फिर भी अपनी क्षमता से खुद प्रभावित होकर सियासत दोनों ने तय किया कि कवियों के व्यापार का दारोमदार कछुआ और खरगोश की जोड़ी को दिया जाए।

कछुआ खरगोश की पहली रेस याद है खरगोश थोड़ा सा रिलैक्स होने क्या बेटा उसकी वाट लग गई खरगोश को धक्का लगा तो उसने दोबारा रेस करने के लिए कछुए को राजी किया इस बार घोषित किया लेकिन किसी को धक्का लगा चुनाव के पहले का विजेता हार जाए तो धक्का लगता ही है खरगोश को विश्वास अतिरिक्त भरा था दौड़ का खरगोश तैयार हो गया इस बार कछुए ने उस मार्ग का निर्धारण किया जिसमें नदी आती थी जाहिर जीत गया इसके बाद दोनों ने मिलकर बिज़नस कर रहे हैं नदी में कछुए की पीठ की जगह खरगोश की काम आती है।

सियासत बस्ती बस्ती तो आखिर में घी बेचने का दामाद और कछुआ खरगोश की जोड़ी पर डाल दिया कछुआ खरगोश की जोड़ी अलग-अलग दलों के लिए काम करती है इनकी वफादारी का प्रयास इतना ही नहीं पूर्वाग्रह के कारण विचलित होती है. यह जोड़ी उस दल के खिलाफ योजनाएं बनाती है जिसके लिए कभी काम करती थी क्योंकि अपने हिसाब किताब के दिन अलग है देखना यह है कि कन्या बिक्री स्टॉक से से आकलन यह जानकर एवं शकित है की हसरत थी अब आयोजन किया गया कछुए और खरगोश ने अनुभव किया और शेर की कछुए ने बताया कि पहले बालू गांव तेल बेचना था इसमें मुनाफा नहीं हुआ लेकिन इससे गंजू के साथ अच्छे संबंध स्थापित हुए हैं.

अबकी बार तेल के साथ कंगी वाली योजना चलाई तो कीमत बढ़ाकर भेजा तो इन दोनों चीजों की बिक्री का मुनाफा भी हुआ खरगोश ने बताया कि पहले बिग भेजता था आपकी बार उसने कंघी भी दी लोगों को बस यह बताया कि नकली बालों को अली साबित करने के लिए जेब में कंघी जरूरी है सियासी फैक्ट्रियां कछुआ खरगोश की भारी मांग है उनको अब सियासत नहीं बिजनेस करना है गंजे को कंघी भेजनी है अंधों को चश्मा चश्मा