किसानों मुंबई की सड़कों पर उतरे हजारों

महाराष्ट्र में मार्च कर रहे किसानों की मांग है कि आदिवासियों की जमीन के मसले को सुलझाया जाए. साथ ही लोड शेडिंग की समस्या, वनाधिकार कानून |

मुंबई – एक बार फिर महाराष्ट्र में हजारों किसान और आदिवासी सड़कों पर हैं और मुंबई की ओर बढ़ रहे हैं. ‘लोक संघर्ष मोर्चा’ का लाल और हरा झंडा लिए किसानों की जुबां पर ‘लड़ेंगे-जीतेंगे’ जैसे नारे हैं. इसे किसानों ने ‘उलगुलान मोर्चा’ का भी नाम दिया है. दरअसल, उलगुलान शब्द अपने आप में संघर्ष की एक कहानी बयां करता है और हमें सन् 1885 से 1900 की याद दिलाती है. अंग्रेज लगातार भारतीयों का दमन कर रहे थे. जल, जंगल और जमीन पर उनका कब्जा हो चुका था|

मुंबई: फडणवीस सरकार के खिलाफ ‘हल्ला बोल’, आजाद मैदान में आज 20,000 किसान करेंगे प्रदर्शन

यही वजह है कि आज उन्हीं के उलगुलान को आदिवासी, किसान आगे बढ़ाते हुए मुंबई की तरफ मार्च कर रहे हैं. आज लोकतांत्रिक व्यवस्था है और इसी आधार पर अपनी मांगों को मनवाने के लिए सड़कों पर हैं. किसानों की मांग है कि आदिवासियों की जमीन के मसले को सुलझाया जाए. साथ ही लोड शेडिंग की समस्या, वनाधिकार कानून, सूखे से राहत, न्यूनतन समर्थन मूल्य, स्वामीनाथ रिपोर्ट को जल्द से जल्द लागू किया जाए |