कैसे इस महिला ने हराया चौथे स्टेज के कैंसर को। साइंस या चमत्कार?

ann cameron

कैसे हराया इस महिला ने चौथे स्टेज के कैंसर को। चमत्कार या साइंस?

नमस्कार दोस्तों, जैसा की आप सब जानते है। इस दुनिया में कई तरह की बीमारियां है। और व्यक्ति के जीवन में कई तरह की तकलीफे आती है। और हर व्यक्ति ऊनी बीमारियो और तकलीफों से डट कर सामना कर लेता है। और अत्यादिक तौर पर ये देझा जाता है कि ऊनी मुसिबतों से डट कर सामना करने वालो की जीत भी होती है।परंतु कुछ ऐसी अन्य बीमारिया भी होती है। जिसका नाम सुनते ही व्यक्ति के मस्तिष्क में डर बैठ जाता है। और वो व्यक्ति अपने जीने की बनी हुई उम्मीद के घर बहुत ही नाजुक हालत में कर देता है। और अंत में उसका परिणाम बहुत ही दुखदायक होता है ऐसी कई सारी बीमारिया है। पर इस बीमारी ऐसी हे जिससे आज भी उस बीमारी का नाम सुनते ही व्यक्ति के मन में भय उत्पन्न हो जाता है उसका नाम है कैंसर

जी हा दोस्तों आज हम बात करने जा रहे बे कैंसर की।

कैंसर एक बहुत खतरनाक बीमारी है जो अन्य किसी बिमारी से बहुत अलग और दर्दनाक मानी जाती है। कई ऐसे व्यक्ति होते है जो इस बीमारी का सामना करते हैं। किंतु दुखद की बात ये हे की कई व्यक्ति इस बीमारी का सामना करने की बजाए जीने की उम्मीद हर जाते हैं। कैंसर एक ऐसी बीमारी है जिसका आम व्यक्ति का इलाज कराना आसान बात नही है। कैंसर का इलाज बहुत महंगा होता है। और सही समय पर कैंसर का इलाज नही करवाया गया तो लगभग व्यक्ति की मृत्यु निश्चित है। आज हम बात करेंगे एक ऐसी महिला की जिसने कैंसर को बिना इलाज के ही आखरी स्टेज पर हर दिया। और कैंसर पेशेंट्स के लिए एक मिसाल बानी जो कैंसर से डरते है।

एन केमरॉन

इस महिला का नाम ( Ann cameron ) एन केमरॉन है। एन केमरॉन को अपनी बीमारी का पता जब लगा जब वो कैंसर के आखिरी यानि चौथे स्टेज पर थी। कैंसर की चौथी स्टेज आने के बाद अन्न केमरॉन के सामने सिर्फ एक ही रास्ता बचा था कीमोथेरेपी। पर अत्यधिक पैसे न होने के आभाव के कारण वह अपनी बीमारी कैंसर का इलाज करवाने में सक्षम नही थी। पर एन केमरॉन ने हार नही मानी और उन्हीने एक ऐसा विकल्प ढूंढ लिया जिसके सामने कैंसर जैसी बड़ी बीमारी को भी घुटने टेकने पड़े।

Ann cameron

एन केमरॉन का विकल्प

एन केमरॉन ने रोज एक लीटर गाजर का जूस पीकर कैंसर को हरा दिया। ये बात कई शोशल मिडिया साइट्स पर भी आ चुकी है। एन केमरॉन के अनुसार सन 2013 में उन्हें पता चला की उन्हें कैंसर हैं। उनके कहे अनुसार डॉक्टर ने उनको कीमोथेरेपी करने का सुझाव दिया और साथ ही साथ ये भी कहा कि कीमोथेरेपी से उन्हें जीने के लिए थोड़ा ज्यादा समय  मिल सकता है। पर एन केमरॉन अब आप ठीक नही हो सकते।

क्योकि उनके पास ज्यादा वक़्त नही था इसलिए एन केमरॉन ने कीमोथेरेपी करने से इंकार कर दिया। उसके बाद एन केमरॉन ने कैंसर से हार न मानते हुए ऑनलाइन इसका इलाज ढूंढना शुरू किया और इसी दौरान सफलता भी उनके हाथ लगी। ऑनलाइन बीमारियों के रिसर्च में लागू हुई एन केमरॉन ने पढ़ा की किसी व्यक्ति ने लिखा था कि उसे कैंसर था और आने दोस्त की पत्नी के सलाह पर उसने रोजाना 2.25 किलो गाजर के जूस का सेवन करना शुरू किया जिससे उसे काफी लाभ हुआ।

एन केमरॉन को यह लेख ने काफी प्रभावित किया। और उन्होंने तय कर लिया की वो भी रोजाना 2.25 किलो के जूस का सेवन करेंगी। और एन केमरॉन ने 8 हफ्ते तक रोजाना 2.25 किलो गाजर के जूस का सेवन करती रही। जिसकी वजह से उनका ट्यूमर बढ़ना बंद हो गया। और इस दौरान 13 महीने बाद एन केमरॉन का कैंसर पूरी तरह से ख़त्म हो गया और तब उन्हें चोथ्थे स्टेज के कैंसर की बात मालूम पड़ी। की उन्हें चौथे स्टेज का कैंसर था। एन केमरॉन की ये खबर पढ़कर पूरी दुनिया के डॉ हैरान हो गये और उन्हें इस बात का विश्वास नही हुआ। परंतु जब एन केमरॉन से सीधी बात हुई तो यह मामला बहुत चोकाने वाला था। अब एन केमरॉन पूरी तरह ठीक हो गयी है और पूरी तरह से आपने सारे काम पहले की तरह कर रही है।