“युवा बढ़ रहा है युवा की शक्ति का इस्तेमाल नहीं हो रहा है” एक सोच।

youth

युवाओं का देश कहा जाने वाला भारत हर वर्ष 30 लाख से ज्यादा युवा हर वर्ष शिक्षा उच्च शिक्षा ग्रहण करते हैं बेरोजगारी के आंकड़े जारी करने वाली “राष्ट्रीय नमूना सर्वेक्षण संगठन “की एक रिपोर्ट के अनुसार भारत में हर 3 युवा में से एक युवा बेरोजगार रह जाता है अर्थात एक तिहाई लोग बेरोजगारी हर वर्ष रह जाते हैं– देश की 12 करोड़ों की आबादी आज भी नौकरी की तलाश में है इनमें सबसे ज्यादा चिंता की बात है कि इनमें से सबसे ज्यादा पढ़े-लिखे बेरोजगार हैं ,

आंकड़े= बेरोजगारों में 25% युवा 20 से 24 वर्ष के हैं- 17% 25 से 29 वर्ष के युवा है 15% 10वीं 12वीं क्लास वाले युवा है 16% तकनीकी शिक्षा ग्रहण करने वाले युवा बेरोजगार है

2013 14 की राष्ट्रीय नमूना सर्वेक्षण संगठन की रिपोर्ट के अनुसार हमारे देश में 18 से 29 वर्ष की उम्र के शिक्षा के उच्च शिक्षा के युवा की बेरोजगारों की संख्या 28% से अधिक चली गई है कुछ आंकड़ों के अनुसार यह भी पता चलता है 3000000 हर साल उच्च शिक्षा ग्रहण करते हैं उनमें से 14 लाख बेरोजगार हर साल रह जाते हैं

वर्तमान भारत में देश की हर युवा शक्ति जो बेरोजगार है वह आग की भट्टी में जल रही है उनके दिमाग का उपयोग नहीं हो पा रहा है इसी वजह से और नशे की प्रवृत्ति में जा रही है और जिसके कारण देश को खामियाजा भुगतना पड़ रहा