स्वामी विवेकानंद swaami vivekanand के जीवन को अत्यंत सुखी और समृद्ध बनाने वाले विचार।

 

swaami vivekanand का जीवन बहुत ही सादगी पूर्ण था उन्होंने मनुष्य को जीने का तरीका बताया था जिसे अपना कर मनुष्य अपने जीवन का एक स्वरूप ही बदल सकता हैै। और व्यक्ति को जीने का नया मकसद मिल सकता है आइए जानते हैं swaami vivekanand के बारे में कुछ बातें।

swaami vivekanand का जन्म 12 जनवरी अठारह सौ तिरसठ में हुआ था उन्होंने रामकृष्ण मठ रामकृष्ण मिशन और वेदांत सोसाइटी की नींव रखी 1893 में अमेरिका के शिकागो में हुए विश्व धर्म सम्मेलन में उन्होंने भारत और हिंदुत्व का नेतृत्व किया था। हिंदुत्व को लेकर उन्होंने जो व्याख्या शिकागो में की थी उसकी वजह से इस धर्म को लेकर दुनिया में काफी आकर्षण बढ़ा भारत में उनके जन्मदिन को युवा दिवस के तौर पर मनाया जा रहा है। वह औपनिवेशिक भारत में हिंदुत्व बुद्ध और वेस्ट की भावना जागृत करने के लिए जाने जाते हैं और सदैव संघर्षरत रहे।

स्वामी विवेकानंद के कुछ विचार जो शायद आपके जीवन को ही बदल दे।

1. उठो और जागो और तब तक ना रुको जब तक तुम अपना लक्ष्य प्राप्त नहीं कर लेते।

2. पढ़ने के लिए जरूरी है एकाग्रता और एकाग्रता के लिए जरूरी है ध्यान ध्यान से ही हमें इंद्रियों पर संयम रखकर एकाग्रता प्राप्त कर सकते हैं।

3. ज्ञान स्वयं में वर्तमान है मनुष्य केवल उसको अपने अनुसार ढाल सकता है।

4. जब तक जीना है तब तक सीखना है अनुभव ही जगत का सर्वश्रेष्ठ टीचर और मित्र है।

5. पवित्रता देर और उद्यम यह तीनों गुण एक साथ व्यक्ति को एकत्रित करने चाहिए अपने भीतर।

6. लोग आप की स्तुति करें या निंदा लक्ष्य तुम्हारे ऊपर कृपालु हो या ना हो तुम्हारा देहांत आज हो या कल तुम न्याय पर से कभी विचलित ना हो।

7. जब तक आप खुद पर विश्वास नहीं करते तब तक आप भगवान पर विश्वास कभी नहीं कर सकते अगर आप भगवान पर विश्वास करना चाहते हैं तो सबसे पहले अपने आप पर विश्वास करो।

8. जिस समय जिस काम के लिए प्रतिज्ञा करो ठीक उसी समय पर उसे करना ही चाहिए नहीं तो लोगों का विश्वास उठ जाएगा और मैं तुम पर कभी विश्वास नहीं कर सकते।

9. एक समय में एक काम करो ऐसा करते समय अपनी पूरी आत्मा उसमे डालो और सब कुछ भूल जाओ।

10. जितना बड़ा संघर्ष होगा जीत उतनी ही मजेदार होगी।

Facebook Comments