महात्मा गांधी के पुतले को गोली मारने के पीछे कि वजह

महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi):-

30-जनवरी, महात्मा गांधी के पुण्यतिथी के मौके पर हर जगह उनके संघर्षों को, उनके विचारों को याद करते हुए, उनके सम्मान में कई कार्यक्रम आयोजन किये जाते हैं.पर इस बार उत्तर प्रदेश के अलीगढ में आयोजित एक कार्यक्रम में  ऐसी घटना घटी, इस घटना से लोग जितने हैरान हैं, उतना ही लोगों में गुस्सा हैं, कि कैसे कोई हमारे राष्ट्रपिता के पुतले के साथ कर सकता हैं.

Mahatma gandhi
Mahatma gandhi

जिस तरह से गांधी कि हत्या कि गई थी, उसी घटना को एक नाटकीय रूप से पेश करने का आखिर क्या मतलब हो सकता हैं ?

आखिर क्या हैं सच्चाई:-

30-जनवरी को सारे भारत में महात्मा गांधी कि पुण्यतिथी मनाई जाती हैं, आज से 71 सालों पहले पहले नाथूराम गोडसे ने गांधी के सीने में तीन गोलियां चलाकर बड़ी बेरहमी से उनकी हत्या कि थी, जिसकी सजा उन्हें मिली.

बुधवार को महात्मा गांधी (mahatma gandhi) के 72 वे पुण्यतिथि पर उत्तर प्रदेश के अलीगढ शहर में एक कार्यक्रम मनाया गया, जिसमे महात्मा गांधी के हत्या के सीन को Recreat किया गया, गांधी के तस्वीर को खिलौने वाले बंदूक से तीन बार गोली मारकर, तस्वीर से खून जैसा कुछ बहता हुआ दिखया गया, और जिसने गोलिया चलायी वो हिंदू महासभा की राष्ट्रीय महासचिव पूजा शकुन पांडे थी और इसके अलवा उनके साथ उनके पती अशोक कुमार पांडे थे जो अखिल भारतीय हिंदू महासभा के राष्ट्रीय प्रवक्ता हैं और कई कार्यकर्ता थे, जिनके खिलाफ UP पुलिस ने शिकायत दर्ज करवा ली हैं और कारवाही शुरू हैं, पुलिस

यह भी पढ़े :-  आखरी वन-डे मैच में न्यूज़ीलैंड के खिलाफ इंडिया को मिली जीत 
क्यों चलायी गोली :- 

पूछताछ करने पर अशोक कुमार पांडे ने कहा कि उन्हें महात्मा गांधी के पुतले को गोली मारने का उन्हें कोई अफसोस नहीं है. उन्होंने कहा, ‘महात्मा गांधी की वजह से ही हिंदू मारे गए. उन्होंने ही देश का बंटवारा करवाया. नाथूराम गोडसे अगर महात्मा गांधी को नहीं मारते तो देश के और टुकड़े होते. गांधी ने देश को आजादी नहीं दिलवाई.’ साथ ही उन्होंने बताया कि वे गोडसे के अनुयायी हैं.आरोपी नथूराम गोडसे ने जो किया, उनके मुताबिक अच्छा था तो इसीलिए, हिंदू महासभा महात्मा गांधी के पुण्यतिथि के दिन, नाथूराम गोडसे के सम्मान में इस दिन को “शौर्य दिवस ” के रूप में मनायेंगे, उनके मुताबिक गांधी के हर पुण्यतिथी को वो इसी तरह मनायेंगे.

ऐसी शर्मनाक सोच रखनेवाले और इस तरह के कृत्य करनेवाले लोगों को, पूजा शकुन पांडे उनके पती अशोक पांडे सहित 13 लोगों के नाम कि FIR लिखी गयी हैं और कारवाही शुरू हैं.

जिन्होंने ये कृत्य किया उनको सजा तो मिलेगी, पर जिस तरह कि सोच समाज में पल रही हैं, इस पर गौर करने कि जरूरत हैं. जो हमारे राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के लिये इस तरह से सोच सकते हैं, उनके हत्यारों को हार पहनाकर, उनके पुतले पर गोली चला सकते, उनकी सोच किस तरफ जा रही हैं, इसपर सच में गौर करने कि जरूरत हैं.

आप इस बारे में क्या सोचते हैं , ये हमें comment में जरूर बताइये…

यह भी पढ़िये :- अमरोहा हत्याकांड