अब किसी भी कंप्यूटर के फाइल या उसके डाटा को सीधे कर सकेंगे अपने मस्तिष्क में अपलोड।

Shared consciousness

देखा जाए तो आज के दौर में हर एक सी ऐसी चीज है जिसमें कोई ना कोई अविष्कार किया गया है हमारी छोटी से छोटी चीज लेकर बड़ी से बड़ी चीज अगर हमारी किसी की तबीयत खराब होती है या शरीर में कुछ होता है तो उसका एक से लेना अल्ट्रासाउंड करना इसलिए करना यह भी सब लेकर एक आविष्कार से जुड़ा हुआ है एक्शन लेना यह एक बहुत बड़ा अविष्कार है परंतु आविष्कार एक झटके से हुआ आज के समय में लगभग पूरी दुनिया अविष्कार के वजह से ही अपने गणित में कठिन कामों को आसानी के रूप में बदल रही है।

Shared consciousness

यदि हम कोई मोबाइल यूज कर रहे हैं या कोई कैसेट्स लैपटॉप कार मोटरसाइकिल कोई भी बाइक कल यह सब एक अविष्कार कहीं स्वरूप है कहीं ना कहीं किसी ना किसी ने इन सब का आविष्कार किया है और इन सब से हमारी लाइफ को आसान बनाया है ऐसे ही भविष्य में ऐसे आविष्कार आने वाले हैं जो आने वाले समय में पूरी दुनिया को हिला कर रख सकते हैं।

Shared consciousness

Shared consciousness चेतना साझा करें इस अविष्कार का खाने का यह मानना है कि कंप्यूटर का जितने भी डाटा फाइल के सब होती है उसको इंसान अपने मस्तिष्क में सीधे ट्रांसफर कर सकता है कंप्यूटर द्वारा बड़ी बात तो यह माने जा रही है कि इस साइंटिफिक रिसर्च से जितनी भी फाइल जितना भी देता है वह इंसान के मस्तिष्क में हमेशा के लिए शुभ हो जाएगा और उसे हमेशा याद रहेगा।

एक्सपेरिमेंट के बाद कोई भी मनुष्य अपनी खुद की सोच भी कंप्यूटर में डाल सकता है और उस सोच को किसी दूसरे व्यक्ति के मस्तिष्क में भी ट्रांसफर कर सकता है बस अब जब भी अगर आपको कोई भी घटाया फाइल को देखना है याद करना होता है तो आने वाले सेंड रिजल्ट सच में आप कंप्यूटर की मदद से डाटा सीधे अपने दिमाग में सेव कर सकते हैं।