आखिर सड़क हादसे होनी की वजह क्या हे ?

accident

उम्मीद जगाने वाला संकेत हैं कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का ध्यान उन वास्तविक वजह की ओर गया, जिनके चलते अधिकतर सड़क हादसे (accident) होते हैं। मुख्यमंत्री के इस कथन पर शायद ही किसी की नाइत्तेफाकी हो कि 95 फीसद सड़क हादसे मानवीय चूक का परिणाम होते हैं।

यह भी सच है कि सड़क हादसों(accident) में जान गवाने वालो में युवाओं की संख्या अधिक होती हैं। सरकार और उसके सहयोगी संगठन सड़क हादसों (accident) पर अंकुश लगाने के लिए काफी प्रयास करते हैं, पर जर्जर सड़कों, अनियंत्रित रफ्तार, गाडियों के रखरखाव का अभाव और नशाखोरी जैसे कारकों पर काबू न होने के कारण हादसे नियंत्रित नही हो पाते। इनमे सड़कों के रखरखाव का एकमात्र विषय छोड़ दे तो बाकी अधिकतर बातें लोगों के आत्मानुशासन से सम्बंधित हैं, पर कई लोग, खासकर युवा सड़क के अनुशासन को महत्व नही देते और अक्सर हादसों में जान गवा बैठते हैं या विकलांग हो जाते हैं। सड़क हादसों की दर कम करने के लिए आवश्यक है की सड़कों की गुणवत्ता ऊच्च श्रेणी की हो। यह छिपा तथ्य नही है कि कमीशनखोरी ओर अधिक से अधिक मुनाफा कमाने के चक्कर मे निर्माण एजेंसियों और ठेकेदार सड़को के निर्माण कार्य में मानको का उल्लंघन करते हैं। इसके चलते भी कई हादसे होते हैं।

ये भी पढ़े : किसान कर्जमाफी या चुनावी चाल ?

यह आवश्यक है कि सड़कों का निर्माण कार्य गुणवत्ता के मानकों को ध्यान मे रखकर किया जाये। रही बात व्यक्तिगत कारणों की, तो इसे जागरूकता का स्तर बढ़ाकर ही बेहतर किया जा सकता हैं।