राज्यसभा में सवर्ण आरक्षण बिल विपक्ष का समर्थन।

राज्यसभा में सवर्ण आरक्षण बिल पास होना लगभग तय है

राज्यसभा में पेश हुए जनरल कोटा बिल कांग्रेस समेत सभी विपक्षी पार्टियों ने समर्थन दिया है जो राज्यसभा में लगे पास होना तय है।

लेकिन विपक्ष ने जनरल कोटा बिल को लेकर सरकार पर हमला बोला है समाजवादी पार्टी ने ओबीसी के लिए 54 परसेंट कोटा की मांग की है ,उन्होंने कहा कि जब 50 परसेंट की सीमा पार ही हो रही है तो ओबीसी के हालात खराब है इसलिए ओबीसी को 54 परसेंट आरक्षण मिलना जरूर चाहिए।

विपक्ष ने जनरल कोटा बिल general category को रोजगार देने के लिए नहीं बल्कि 2019 के चुनाव के लिए लाया गया है फिर भी विपक्ष का समर्थन कर रहा है, तथा विपक्ष ने यह कहा कि सरकार अपनी मानसिकता को बदलें वरना इसके नतीजे नहीं आएंगे, भीमराव अंबेडकर कुर्सी पर बैठ गए तो उसी को धोया गया इस bill को सरकार पहले भी ला सकती थी 97% गरीब जनरल कैटेगरी को सिर्फ 10% आरक्षण इससे कितने सवर्णों को रोजगार मिलेगा बिल सरकार पहले भी ला सकती थी लेकिन ऐसा नहीं किया गया।

विपक्ष के नेता आनंद शर्मा ने अपने बयान में कहा सरकार अपने राजनीतिक लाभ के लिए यह bill लेकर आई है जब चुनाव होने में केवल कुछ महीने की बच्चे हैं हमारी मांग है कि सरकार पहले बिगड़ी हुई अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाए और रोजगार उत्पन्न करें किस संविधान संशोधन के जरिए सरकार ने लोकतंत्र की सबसे ऊंची संस्था का अपमान किया है आनंद शर्मा ने कहां की उनकी कांग्रेस पार्टी गरीबों को आरक्षण देने के पक्ष में खुला समर्थन देने को तैयार है हमें आरक्षण का इतिहास भी देखना पड़ेगा आनंद ने कहा कि सैकड़ों सालों से सामाजिक अन्याय को दशकों तक ठीक नहीं किया जा सकता है लोकसभा में आरक्षण विधेयक का समर्थन कांग्रेस ने किया था लेकिन कांग्रेस ने इस बिल को लाने के समय का विरोध किया है