पाकिस्तान के पास ओलंपिक क्वालीफाइंग के खेलने के लिए नहीं बचे पैसे।

विदेशी दौरों के लिए नहीं बचा हो कीबोर्ड के पास एक भी पैसा

 

पाकिस्तान इस वक्त कंगाली से जूझ रहा है यह बात किसी से छुपी हुई नहीं है। धमकी कमी से जूझना पाकिस्तान हॉकी महासंघ पीएच ऐप एफ आई एच प्रो हॉकी लीग में हिस्सा लेने से बच रहा है एफआईएच हॉकी लीग 2020 ओलंपिक गेम का क्वालीफाइंग प्रतियोगिता है पीएचएफ की हालत बीते कुछ वर्षों से बहुत खराब है।

 

2018 नवंबर दिसंबर में भी रुपए की कमी के चलते पाक की टीम भारत में आयोजित हॉकी विश्व कप से हटने का खतरा मंडरा रहा था। पार्को प्रो हॉकी लीग के पहले दौर के मैच में अर्जेंटीना ब्यूनस आर्यस में 2 फरवरी को खेलना है। उसके बाद पाकिस्तान टीम को न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया का दौरा भी करना है दूसरे चरण के मुकाबलों के लिए पाकिस्तान टीम को यूरोप का दौरा भी करना होगा।

 

बताया जा रहा है कि पीएच ऐप रुपए की कमी के कारण प्रोलिंक से हटने पर गंभीर विचार कर रहा है बताया यह भी गया है कि इससे अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं से पाकिस्तान को 2 साल का प्रतिबंध भी उठाना पड़ सकता है। पीएचएफ ने ऑस्ट्रेलिया अर्जेंटीना और न्यूजीलैंड में होने वाले पहले दौर के मुकाबले के लिए लाहौर में अभ्यास शिविर का आयोजन किया है इसके लिए 46 खिलाड़ियों को बुलाया गया है लेकिन उनके दौरों का खर्च का इंतजाम का अब तक कुछ पता नहीं है।

 

पक हॉकी टीम को पहले दौर के दोनों में 2.5 करोड़ रुपए की आवश्यकता है और यूरोप में होने वाले दूसरे दौरे के लिए लगभग 7.1 करोड़ रुपए की जरूरत पड़ेगी बताया जा रहा है। की पीएच ऐप ने रुपए कैली सरकार से संपर्क साधा था लेकिन वहां से कोई प्रत्युत्तर नहीं मिला है ऐसा ही भारत में आयोजित विश्व कप के टाइम भी हुआ था। लेकिन तब कुछ प्रयोज्य को और कुछ निजी तान के माध्यम से रुपए का प्रबंध हो गया था।

 

 

Facebook Comments