अब योगी आदित्यनाथ को मांगनी होगी माफ़ी वरना हो सकती हैं क़ानूनी करवाई।

Now Yogi Adityanath will have to apologize for legal action

अब योगी आदित्यनाथ को मांगनी होगी माफ़ी वरना हो सकती हैं क़ानूनी करवाई।

Now Yogi Adityanath will have to apologize for legal action

आज कल राजनीती के चर्चे जगह जगह हो रहे है। हर पार्टी 2019 के चुनाव के प्रचार के लिए जोर शोर से मेहनत कर रही है। राजनीती तो हमारे समाज के लिए महत्वपूर्ण है ही पर कई बार ऐसी कुछ चीजें सुनने या देखने को मिल जाती है जो की किसी भी बड़े नेता हो या कोई स्टार इस सब को पब्लिक के सामने अपनी गलती का पश्चयताप करना पड़ता ही है। अगर जो अपनी गलती की माफ़ी नही मांगता वो नागरिको की नजर में बुरा बन जाता है।  जैसा की हम सब जानते है कि राजनीती सभाओं, प्रोग्रामो और रैलियों में भीषण बयान बजी होती रहती है। जिससे लोग उनकी पार्टी की और ज्यादा से ज्यादा आकर्षित हो सके और उनसे उन्हें फायदा भी होता है। पर इन बयानबाजियों की बिच कुछ ऐसी गलती भी हो जाती है जिससे उनको उल्टा लेना का देना पड़ जाता है। पर ऐसी बयान बाजी लोगो को ठेस भी पहुचती है। जिससे उनको कई प्रकार की मुसीबतो का सामना करना पड़ता है।

ब्राह्मण समाज ने भेजा आदित्यनाथ को नोटिस कहा माफ़ी मांगो नही तो होएगी  करवाई।

Now Yogi Adityanath will have to apologize for legal action

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जिस तरह से बजरंगबली को दलित कहा है। इससे कई नागरिको और हिन्दू समाज और हिन्दू संगठनों को बहुत ठेस पहुची है। और यह बयान उनको तनिक भी नहीं भाया। राजस्थान के सर्व भ्रमण समाज ने योगी आदित्यनाथ को उनके बयान बजी के खिलाफ नोटिस भेजा है। इस नोटिस में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को नोटिस भेज कर उनसे माफ़ी मांगने को कहा है। आश्चर्य की बात तो यह देखी जा रही है कि योगी आदित्यनाथ ने बजरंग बली को दलित बताया और कहा कि जो रामभक्त होंगे वो भाजपा को वोट देंगे और जो रावण भक्त वो कोंग्रेस को। और इस तरह की बयानबाजी योगी आदित्यनाथ को भरी पड़ गयी।

सर्व भ्रमण समाज का यह कहना है। की बजरंगबलि ना दलित थे। ना तो वंचित और नहीं कोई लोकदेवता और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को अपनी इस टिप्पणी पर माफ़ी मांगनी ही चाहिए क्योकि यह योगी आदित्यनाथ को बजरंगबली के ऊपर इस तरह के टिप्पड़ी करने का कोई हक़ नहीं हैंसमाज के अध्यक्ष सुरेश मिश्रा ने अपने वकील से बात करके उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री को माफ़ी मांगने का नोटिस भेजा।

Now Yogi Adityanath will have to apologize for legal action

सोशल मीडिया के अनुसार यह भी कहा जा रहा हैं। की यदि योगी आदित्यनाथ ने माफ़ी नहीं मांगी तो उनपर क़ानूनी करवाई की जाएगी ऐसा उनको दिए गए नोटिस में हैं। योगी आदित्यनाथ ने अपने टिप्पड़ी में यह कहा था की भगवान हनुमान एक ऐसे लोक देवता हैं की अब वह वनवासी हैं। वह गिरवासी हैं,दलित हैं,वंचित हैं योगी आदित्यनाथ ने कहा की पुरे भारतीय समाज को उत्तर से लेकर दक्षिण तक और पूर्व से लेकर पश्चिम तक समाज को जोड़ने का काम करते हैं। इसलिए आदित्यनाथ योगी ने कहा की राम के जो भक्त हैं। वो भारतीय जनता पार्टी को वोट देंगे और जो रावण के भक्त हैं वो ही कांग्रेस को वोट देते हैं। साथ ही उन्होंने यह भी कहा की अगर आपको रामराज्य चाहिए तो भाजपा को वोट दे।