मध्यप्रदेश -छत्तीसगढ़ के बाद अब राजस्थान में भी हुए अब किसानों का कर्ज माफ।

कांग्रेस ने मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ के बाद अब राजस्थान में भी अपना वादा निभा दिया है. हाल ही में राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बुधवार को प्रदेश के किसानों का कर्ज माफ करने की घोषणा की. अशोक गहलोत ने मुख्यमंत्री बनने के तीसरे दिन ही किसानों का कर्ज माफ करने की फाइल पर साइन किए.

अशोक गहलोत ने कहा की,  ‘सहकारी बैंकों से लिया गया किसानों का पूरा अल्पकालीन कर्ज माफ होगा.’ सीएम की घोषणा के बाद कॉमर्शियल बैंकों से लिया गया 2 लाख रुपये तक का किसानों का कर्ज माफ  किया जाएगा. इससे राज्य  सरकार पर लगभग 18 हजार करोड़ का अतिरिक्त भार आएगा.अशोक गहलोत ने जानकारी दी की , ‘कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी ने किसानों का कर्ज माफ करने का वादा किया था, जिसके लिए राहुल ने 10 दिन के लिए बोला था . किये गए आदेश के तहत कोऑपरेटिव बैंकों के किसान का पूरा कर्ज माफ होगा.और ऐसे किसान जो कॉमर्शियल बैंक का लोन नहीं चुका पाए और डिफाल्टर हैं, उन किसानो का 2 लाख तक का कर्ज माफ होगा.’

आपको बता दे की इससे पहले मध्य प्रदेश के सीएम कमलनाथ और छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल ने अपने-अपने राज्यों के किसानों का कर्ज माफ कर दिया था. इन दोनों मुख्यमंत्रियों ने पद की शपथ लेने के कुछ घंटे के अंदर ही ये घोषणा करते हुए किसानों को ये बड़ी राहत दी थी.

इसके साथ राजस्थान किसानों का कर्ज माफ करने वाला तीसरा कांग्रेस-शासित और देश का चौथा राज्य बन गया है.मंगलवार यानि की एक दिन पहले बीजेपी की असम सरकार ने भी किसानों को कर्जमाफी का तोहफा दे दिया था. इस कर्जमाफी का फायदा लगभग 8 लाख असम के  किसानों को मिल सकता है, इससे सरकार पर 600 करोड़ रुपये का  बोझ पड़ सकता हे।