अब सिर्फ 250 रु से खाता खोलकर पाएं 50 लाख रुपये। सुकन्या समृद्धि योजना में बदल गए नियम पढ़े

Sukanya Samrudhi Yojna

अगर आप अपनी बेटी के लिए सुकन्या समृद्धि योजना में निवेश करने की सोच रहे है या फिर आपने पहले से निवेश किया हुआ तो आपके लिए खुशखबरी है.सरकार द्वारा इस योजना के तहत अब मिलने वाली ब्याज दरों का (मुनाफा) बढ़ाकर 8.5 फीसदी कर दिया हे।

ये नया नियम एक अक्टूबर से लागू हो गई है. इसका मतलब है कि आपको अब ज्यादा मुनाफा मिलेगा. हाल में सरकार ने सुकन्या समृद्धि योजना में कई बड़े बदलाव किए हैं. अब आप सिर्फ 250 रुपये से इस योजना में खाता खुलवा सकते हे , इससे पहले 1000 रुपये थे.

क्या हे सुकन्या समृद्धि योजनाः

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ के तहत सुकन्या समृद्धि योजना की नीव रखी. इसकी  शुरुआत 4 दिसंबर, 2014 को थी. ये एक छोटी बचत योजना है. इसमें आप अपनी लड़की के नाम से सुकन्या समृद्धि खाता के जरिए लाभ प्राप्त किए जा सकते हैं.

क्या हे इस योजना का उद्देश्यः

पीएम मोदी के अनुसार यह योजना बालिका के जन्म से लेकर शादी करने तक माता-पिता को आर्थिक मजबूती प्रदान करती है. इस योजना से घटते लिंगानुपात के बीच कन्या जन्म दर को प्रोत्साहन देने में मदद करेगी. माता-पिता की बेटी की पढ़ाई व शादी के लिए पैसे की टेंशन दूर करने में भी ये योजना मदद करेगी.

अब सालाना जमा राशि की सीमा भी घटी:

भारत सरकार की तरफ से सामान्य परिवार को ध्यान में रखते हुए सुकन्या समृद्धि योजना में सालाना आधार पर न्यूनतम राशि रखने की सीमा में भी बदलाव किया गया है. पहले आपको सालाना 1000 रुपये न्यूनतम जमा करना अनिवार्य बनाया गया था. लेकिन, अब महज 250 रुपये में आप ये खाता खुलवा सकते हो . ये नए नियम 6 जुलाई 2018 से प्रभाव में हैं।

आप कहां खोल सकते हे ये खाता ?:

आप किसी भी पोस्‍ट ऑफिस या बैंकों की अधिकृत शाखा में ये खाता खुलवा सकते हैं. आसान भाषा में जो भी बैंक पीपीएफ खाता खोलने की सुविधा उपलब्‍ध कराते हैं, वे सुकन्‍या समृद्धि योजना का खाता भी खोलते हैं.

इसके लिए कौन से दस्‍तावेजों की है जरूरत:

सुकन्‍या समृद्धि अकाउंट खुलवाने का फॉर्म.

बच्‍ची का जन्‍म प्रमाणपत्र.

जमाकर्ता का पहचान पत्र जैसे पैन कार्ड, राशन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, पासपोर्ट आदि.

जमाकर्ता के पते का प्रमाणपत्र जैसे पासपोर्ट, राशन कार्ड, बिजली बिल, टेलीफोल बिल आदि.पैसे जमा करने के लिए आप इसके लिए नेट-बैंकिंग का इस्‍तेमाल भी कर सकते हैं.

कौन खुलवा सकता है ये खाता :

ध्यान दे की आप यह खाता तभी खुलवा सकते हैं जब आप लड़की के प्राकृतिक या कानूनन अभिभावक हों. आप एक बेटी के नाम एक ही सुकन्‍या समृद्धि खाता खुलवा सकते हैं. आप दो बेटियों के नाम यह खाता खुलवा सकते हैं लेकिन अगर दूसरी बेटी के जन्‍म के समय आपको जुड़वां बेटी होती है तो आप तीसरा खाता भी खुलवा सकते हैं.

आपको होंगे ये फायदें:

सुकन्‍या समृद्धि योजना में पीएफ से अधिक ब्‍याज मिल रहा है. और इसमें जमा की जाने वाली राशि पर आपको आयकर अधिनियम की धारा 80सी के तहत कटौती का लाभ भी मिलता है. एक और फायदा हे की न केवल इस पर मिलने वाले ब्‍याज बल्कि मैच्‍योरिटी पर मिलने वाली रकम भी टैक्‍स फ्री होती है.

कब निकाल सकते हैं पैसे:

बेटी के 18 साल के होने के बाद ही आप पैसे निकाल सकते हे. बेटी के  21 साल के होने पर अकाउंट मैच्‍योर हो जाता है. मतलब आप खाते में जमा रकम का 50 फीसदी तक निकाल सकते हैं. अगर किसी दुर्भाग्‍यवश अगर बच्‍ची की मृत्‍यु हो जाती है तो खाता तुरंत बंद हो जाएगा. ऐसे मामले में खाते में पड़ी रकम जमाकर्ता को दे दी जाती है.