जानिए (मुठ मारने) करने के फायदे और नुकसान?

masturbation

हस्तमैथुन(masturbation) एक सामान्य प्रक्रिया है जिसमें मनुष्य अपनी उत्तेजना एवं योग सूत्र दूसरे साथी से ना मिल पाने के कारण स्वयं भी अपनी प्यास बुझाता है जिसके लिए हस्तमैथुन करता है हस्तमैथुन(masturbation) अपने जनन अंगों को खुद ही उत्तेजित करना एवं उन्हें संतुष्टि प्राप्त करना इसके लिए पुरुष मुट्ठी का सहारा लेते हैं मुठ लगाते हैं और महिलाएं अपनी उंगली व अन्य चीजों का सहारा लेते हैं इसमें मुख्य था उंगली मूली गाजर बैंगन एवं आर्टिफिशियल प्लास्टिक एवं रबर के सामान होते हैं

हस्तमैथुन(masturbation) सुख प्राप्त करने की एक नॉरमल हथकंडा है जिसके जरिए आप अपने चरम सुख को अपने जनन अंगों यानी प्राइवेट पार्ट को उत्तेजित करते हैं या शहर आते हैं महिला और पुरुष दोनों के लिए यह एक सामान्य से प्रक्रिया होती है अधिकतर बच्चे जिनकी उम्र 4 से 7 साल की आयु के दौरान अपने प्राइवेट पार्ट से खेलने लगते हैं और इस दौरान उन्हें अपने प्राइवेट पार्ट को गोरा करने में आनंद आनंद सुख प्राप्त होता है यह असर उनके लिए बोलना है या सही इसका उन्हें अंदाजा नहीं होता है लेकिन अधिकतर लोगों द्वारा उन्हें भ्रमित किया जाता है कि हस्तमैथुन(masturbation) या मुठ मारना गलत है

हस्तमैथुन (masturbation) को लेकर लोगों के दिमाग में उठने वाले सवाल

  1. हस्तमैथुन क्या है
  2. क्या हस्तमैथुन एक सामान्य सा व्यवहार है
  3. क्या दिल्ली हस्तमैथुन करना ठीक होता है
  4. सप्ताह में कितनी बार हस्तमैथुन करना चाहिए
  5. हस्तमैथुन से क्या हानि होती है
  6. क्या हस्तमैथुन से शुक्राणु की संख्या में कमी होती है
  7. पर हस्तमैथुन सही है
  8. क्या पुरुष और महिलाओं के लिए हस्तमैथुन उचित है
  9. क्या हस्तमैथुन से कमजोरी आती है

ये भी पढ़े : अपनी sex power को बढ़ाने के लिए क्या-क्या करें।

सेक्स एक्टिविटी के विशेषज्ञों के किए गए अध्ययनों से यह पता चला है कि मन मारना एवं हस्तमैथुन करना मानव के लिए एक सामान्य क्रिया है इसके साथ ही मनुष्य अपने शरीर को निरोग स्वस्थ रखने के लिए हस्तमैथुन भी सहायक होता है

अक्सर देखा जाता है कि लोग इस विषय में बात करना पसंद नहीं करते और अपनी बेइज्जती महसूस करते हैं साथ ही इससे जुड़ी समस्याओं को एक दूसरे में शेयर करने में भी सकते हैं जबकि मुठ मारना हस्तमैथुन करना एक सामान्य प्रक्रिया है जो महिला और पुरुष दोनों ही एक तरह से करते हैं

आइए हम आपको बताते हैं हस्तमैथुन क्या मानव के लिए हानिकारक है

किए गए अध्ययनों से पता चला है कि हस्तमैथुन आपके लिए कोई विशेष आन कारक नहीं है कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि नैतिक कारणों से हस्तमैथुन को बुरा माना गया है जबकि ऐसा कोई भी कारण मेडिकल साइंस में सामने नहीं आया है हस्तमैथुन सामान्य रूप से शारीरिक और प्राकृतिक प्रक्रिया है जो कि व्यक्ति को मानसिक एवं सुख दिलाने का सबसे बेहतरीन माध्यम होता है

आइए आपको बताते हैं कि हस्तमैथुन करना सही है या गलत

इस प्रकार के सवालों का कोई जवाब सही या गलत पूर्ण रूप से मिल नहीं पाया है लेकिन किए गए अध्ययनों के अनुसार प्रतिदिन हस्तमैथुन करना कुछ लोगों के लिए सामान्य हो सकता है जबकि कुछ लोगों के लिए यह बहुत अधिक हो सकता है यह आपके भोजन और आहार पर निर्भर करता है हस्तमैथुन तब तक सही है जब तक आपकी आंतरिक ऊर्जा प्रभावित नहीं होती हालांकि कुछ सेक्स विशेषज्ञों का मानना है कि रोज हस्तमैथुन करना सही है क्योंकि रोज हस्तमैथुन करने से कमजोरी थकान शीघ्र स्खलन जेसी समस्या हो जाती है

सप्ताह में कितनी बार हस्तमैथुन करना चाहिए

लोगों के दिमाग में अक्सर ये ख्याल आता है कि हफ्ते में कितनी बार हस्तमैथुन करना चाहिए तो इन सवालों का अभी तक कोई संतोषजनक जवाब नहीं मिला क्योंकि सभी लोगों की अपनी अपनी शारीरिक क्षमता होती है और यह उन पर निर्भर करता है कि वह कितनी बार कर सकते हैं सेक्स ड्राइव शो भाभी के हालांकि कुछ अधिक मात्रा में नुकसानदायक होती है इसलिए हस्तमैथुन की आवृत्ति को बढ़ाने के बजाय आप को ध्यान रखना चाहिए खेल और अन्य शोक में इसे लगा सकते हैं

क्या सेक्स के स्थान पर हस्तमैथुन सही रहता है

लोगों के दिमाग में यह भी सवाल उठता है कि सेक्स के बजाय हस्तमैथुन ठीक रहता है लेकिन सबका अपना अपना अलग स्थान है इसमें कोई व्यक्ति जरूरत पड़ने पर हस्तमैथुन मजबूरी में करता है अनीता वह अपने साथी के साथ सेक्सी करता वास्तव में हस्तमैथुन साथी के अभाव में किया जाता है जबकि सेक्स पार्टनर के साथ अनुभव को बढ़ा सकता है क्योंकि अपने शरीर को ढंग से समझाने में मदद करता है हालांकि हस्तमैथुन करने से आप अपने पार्टनर को खुश नहीं कर पाएंगे क्योंकि आपकी एनर्जी निकल चुकी होगी और पार्टनर को भी इनर्जी चाहिए होगी तो इसलिए पार्टनर के साथ हस्तमैथुन नहीं करना चाहिए।

ये भी पढ़े : Sex करते समय अपने साथी से कौन सी नहीं करनी चाहिए बातें ?