तो इस वजह से नोट पर छपती है महात्मा गांधी की फोटो।

Mahatma Gandhi

आज के समय में Mahatma Gandhi को कौन नहीं जानता हो एक बहुत महान पुरुष थे भारत और आज आजादी दिलाने में Mahatma Gandhi का बहुत बड़ा हाथ था और कई लोग तो यह कहते हैं कि अगर महात्मा गांधी नहीं होते तो शायद ही भारत को आजादी मिल पाती Mahatma Gandhi ने अपने परिणाम और अपने करने से भारत को आजादी दिलाई जिसमें कई आजाद वीरों ने उसमें हिस्सा दिया और अपने जाने भी गवाही पर क्या आप जानते हैं कि Mahatma Gandhi की फोटो हमारे नोटों पर क्यों छापी जाती है आखिर क्या है इसका कारण आज हम बात करेंगे इसके बारे में।

 

आखिर कब से हुई इसकी की शुरुआत रिजर्व बैंक की माने तो सन 1996 में Mahatma Gandhi की तस्वीर चित्र वाले नोट चालान में आए। 50 लाख 10 लाख 20 हजार 100 और 1000 रूपये वाले नॉट छापे गये। सन 1987 में गांधी जी के तरीके गांधी जी की तस्वीर को वॉटर मार्क के रूप में छापा जाता था जो उसके उलटे तरफ भी दिखती थी।

1993 में रिजर्व बैंक ने सरकार से Mahatma Gandhi जी की तस्वीर नोट पर छापने की गुजारिश की थी। लेकिन देखा जाए तो पहले से कई बार ऐसी बातें उठ चुके हैं कि Note पर गांधी जी के अलावा किसी ने स्वतंत्र सेनानी की तस्वीर क्यों नहीं छापी जाती। आखिर क्यों क्या सिर्फ गांधी जी की तस्वीर छापने का फैसला क्योंकि अन्य नागरिक ऐसे थे जिन्होंने स्वतंत्रा में काफी भारत की सहायता की है।

अन्य स्वतंत्र सेनानी की तस्वीरें लगाई जा सकती है। Mahatma Gandhi ने पहले राष्ट्रपिता का नाम उन्हें दे दिया जाता जिस वजह से पहले भारत के राष्ट्रपिता कैलाश और इस वजह से ही उनकी फोटो नोट पर छपती है पर Mahatma Gandhi की फोटो कब से ली गई इसका भी आज आपको पता बताएंगे। भारत की करेंसी पर चढ़ने वाली गांधी जी की तस्वीर 1946 में खींची गई थी और यह तस्वीरें बिल्कुल असली है।

ये भी पढे :- क्या नेताजी नेहरू ने बंद करवाएं सुभाष चंद्र की तस्वीर वाले नोट।

Facebook Comments