हमारे देश की गंदी राजनीति।

dirty politics

सत्ता की चाह रखने के लिए नेता किसी भी हद तक जा सकते हैं किसी भी सीमा को पार कर सकते हैं ऐसा हम नहीं कह रहा है जो आज हो रहा है इसको देख कर ये हमारा आकलन है

आज सत्ता की भूख में अंधे हो रहे राजनेताओं को अपने राष्ट्र और देश हित से कोई लेना देना नहीं बस उन्हें चाहते बस होता कि फोन कि इसके लिए वह कुछ भी कर सकते हैं चाहे राष्ट्र धरातल में चला जाएगा रसातल में इससे उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता वह इसके लिए उनकी भी पैरवी करने के लिए तैयार है जो आतंकी गतिविधियों का मास्टरमाइंड होते हैं फिर चाहे कुछ भी हो लोग कितने भी मरे से उन्हें कुछ फर्क नहीं पड़ता चाहे कितने भी दंगे हो उन्हें बस अपनी सत्ता की चाबी वह कैसे भी मिले

सत्ता के मैं के राजनेताओं के लिए यह मेरी विशेष सलाह है कि आप इसे इस तरह से नहीं कर सकते आप देश के साथ अन्याय नहीं कर सकते हैं आप उन लोगों की तरफदारी नहीं कर सकते जो अराजकता का माहौल फैलाते हैं और आतंकी गतिविधियों को जन्म देते हैं आपका काम से राष्ट्र की उन्नति एवं विकास करना है जो आप कीजिए इसके लिए हम वोट बैंक की राजनीति ना करें और अपना निस्वार्थ सेवा भाव से योगदान दें गंदी राजनीति से देश को हानि होगी और देश में फूट पड़ सकती है दंगे हो सकते हैं हजारों लोग मरते हैं ऐसे कामों को आप को त्याग देना चाहिए

सच्चा राजनेता वही है जो राष्ट्र के लिए काम करें लार्की सत्ता पाने की कोशिश करें और जुगाड़ लगा कि किसी भी तरीके से सत्ता मिल जाए ऐसी गंदी राजनीति हमारे देश को हानि पहुंचाती है

हमारे देश के ऐसे लोग भी चुनाव लड़ते हैं जिनके ऊपर हजारों धोखाधड़ी मुकदमे एवं कत्ल के केस चल रहे होते हैं उन्हें भी चुनाव आयोग चुनाव लड़ने की अनुमति दे देता है जोकि तर्कसंगत नहीं है वह व्यक्ति क्या जनता की सेवा करेगा जो खुद की सेवा तक ढंग से नहीं कर पाता हमें ऐसे राजनेताओं को चुनने में शर्म आनी चाहिए जो गंदी राजनीति ध्रुवीकरण धर्म के नाम पर वोट बैंक की राजनीति करते हैं

हमारे भारत में यह गंदी राजनीति सन 1947 से ही चली आ रही है जब दो राष्ट्रीय की पार्टियां में अलग-अलग मतभेद था एक अलग देश का निर्माण कर दिया गया जो पाकिस्तान है मौजूदा समय में यह बिल्कुल सही नहीं था हमारा एक अंग हम से कट कर अलग हो गया शो आज भी हमें चूहा है हमें ऐसी राजनीति नहीं करनी चाहिए जो हमारे राष्ट्र का अहित करें

आज कुछ राजनेता सत्ता की भूख में घुसपैठियों के लिए लड़ाई लड़ रहा है उन्हें अपनाने के लिए जो बाहर से आए हैं उनके लिए बड़े-बड़े नारे लगा रहे हैं जो देश को बड़ी हान पहुंचा सकते हैं उनके लिए यह तन किए जा रहे हैं हमारे देश की आवादी क्या कम है जो 3 को भी हाफ ले आए हमारे देश में रोजगार वैसे भी नहीं आया आप बेरोजगारी क्यों बड़ा हराने क्यों नहीं निकाल देते हैं नहीं इन पर राजनीति करने के लिए क्या जरूरत है क्यों ने वोट बैंक बना रहे हैं आप शर्म आनी चाहिए की हम ऐसे लोगों के लिए कर रहे हैं हैं जो हमें एक दिन नष्ट करने के लिए तैयार रहते हैं कुछ नहीं राजनेता पाकिस्तान की हिमायत करते हैं पाकिस्तान से अच्छे संबंध रखने के लिए बात करते हैं आज मैंने बता दूं कि आज सड़क पर खड़े जवान सिर्फ पाकिस्तान के स्नाइपर की गोलियों के शिकार हो रहे हैं इस पर भी वे पाकिस्तान की हिमायत करते हैं जो बिल्कुल ही तर्कसंगत नहीं है यह तो राष्ट्र गद्दारी है जिसे नहीं करना चाहिए