सियाचिन में भारतीय मातृभूमि के योद्धा

हिमालय के काराकोरम के पहाड़ों में मौजूद दुनिया की सबसे ऊंची रणभूमि जहां जाना सोचना भी मुश्किल शरीर की हड्डियों को कंप कंपा ने वाली और सीने को चीरने वाली तेज हवा के सामने डटे हमारे सियाचिन के वीर योद्धा सफेद चादर जो लाल लव से रंगी है उसकी हर कण-कण एक भारतीय . सेना को सलाम करती है

दुश्मन की गोलियो से बड़ा वहां का दुश्मन वहां का मौसम है पल पल मौत को मात देने वाले भारतीय सेना के जवान अपनी वीरता की मिसाल देते हैं

सेना की वीरता= पराक्रमी छातियों से टकराकर टूटती मुश्किल के सीने से चिपकना है वीरता

सेना का साहस= हदों को लांगती शरद को छल को अपनी आधार को हिम्मत से बांधना है वीर साहस