दिल्ली मे, दिवाली से ज्यादा चर्चे प्रदूषण के

Diwali

इस बार दिवाली से ज्यादा शहर मे प्रदूषण का बोलबाला है दिवाली से पहले दिल्ली मे प्रदूषण का कोहराम छाया रहा और धुंध भी छाई रही जिसकी वजह से विजिबिलिटी काफी कम रही | ठंडक भी अब प्रदूषण के साथ दस्तक दे रही है अभी दिवाली मे एक दिन और वाकी है दिवाली पर अगर पटाखे इस बार जले तो दिल्ली एक गॅस चैंबर बन सकती है 7 और 8 नवम्बर की हवा सांस लेने लायक नही बचेगी ऑर कई मासूम ऑर बुजुर्गो की जाने दम घुटने से जा सकती है

पड़ोसी शहर फ़रीदाबाद स्तर का 421, गाजियाबाद का स्तर 435,ग्रेटर नोएडा का स्तर 425, नोएडा का स्तर 433 व गुरुग्राम का स्तर 325 रहा, जबकि दिल्ली का स्तर 426 रहा |

दिल्ली वासी अगर खुली हवा मे सांस लेना चाहते है ऑर उन मासूमो की जाने बचना चाहता है तो यह दिवाली पटाखे मुक्त मनानी होगी | विशेषज्ञों का कहना है अगर इस बार पिछली दिवाली से आधे पटाखे भी चले तो राजधानी मे सांस लेना दुसवार हो जाएगा जबकि इस बार पटाखो पर कोर्ट ने कुछ शर्तो के साथ मंजूरी दे दी है ऑर पिछली दिवाली पर पटाखे पूरी तरह बन थे यह लगभग तय माना जा रहा है कि राजधानी कि हवा जहरीली हो जाएगी इसलिए पहले से ही सतर्क रहने ऑर पटाखे ना जलाने कि सलाह दी गयी है

Facebook Comments