खुशखबरी उच्च विकास दर बनाए रखने की राह पर है भारतीय अर्थव्यवस्था

वित्त मंत्रालय ने दावा किया है अर्थव्यवस्था अपनी उच्च विकास दर बनाए रखने के रास्ते पर है जीडीपी वृद्धि गति चालू वित्त वर्ष के साथ 2019 2020 में भी बरकरार रहेगी इस दौरान सरकार निवेशकों का भरोसा बढ़ाने के लिए कई कदम उठाने की तैयारी में है

वित्त मंत्रालय ने 2000 समीक्षा रिपोर्ट में कहा है कि पिछले 4 वर्षों से देश की औसतन जीडीपी वृद्धि 7 पॉइंट 1 से ऊपर चल रही है चालू वित्त वर्ष की छमाही में 1 की दर 7.6 फीस दी रही जबकि अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष आईएमएफ ने अक्टूबर के आंकड़े के मुताबिक भारतीय अर्थव्यवस्था आने वाले वर्षों में भी दुनिया की तेजी से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था बनी रहेगी वित्त मंत्रालय ने कहा है कि सरकार भारतीय अर्थव्यवस्था की गति बढ़ाने और विदेशी निवेशकों का भरोसा जीतने के लिए कई सुरक्षात्मक और सुधारात्मक कदम उठा रही है वीर निर्माण को बढ़ावा एफडीआई नियमों में बदलाव कपड़े उद्योग को विशेष पैकेज किफायती मकानों के आधार भूत ढांचे में सुधार लाना और मालती दुबई के लिए पटेल मार्ग को बढ़ाने पर विशेष जोर दिया जा रहा है आईएमएफ और विश्व बैंक की ओर से भारतीय अर्थव्यवस्था में काफी सुधार की रिपोर्ट आने का बड़ा असर पड़ेगा जो जीडीपी वृद्धि को स्थायित्व बनाएगा

वित्त मंत्रालय के अनुसार 2016 – 17 2017 – 18 मैं जीडीपी के समक्ष प्रत्यक्ष टैक्स वसूली 5.98% रही जो 10 वर्षों में सबसे अधिक है यह अनुपात 2016 – 17 में 5.7 परसेंट और 2015 – 16 में 5.47% रहा था पिछले 3 वर्षों में प्रत्यक्ष टैक्स जीडीपी अनुपात लगातार बढ़ रहा है इसके अलावा पिछले चार वित्त वर्षों के दौरान दाखिल रिटर्न की संख्या में 81% से भी ज्यादा की बढ़ोतरी हुई है वित्त वर्ष 2013 – 14 में कुल 3 पॉइंट 7 9 करोड़ रिटर्न दाखिल हुए थे जबकि 2017 – 18 में यह आंकड़ा 6.85 करोड़ पहुंच गया साथ ही व्यक्तिगत रूप से इनकम रिटर्न टैक्सटाइल करने वालों की संख्या में भी 66 पर्सेंट का इजाफा हुआ

Facebook Comments