पुणे में अंधविश्वास के कारण दंपती की हत्या

pune crime

आज युग 21 सदी तक पहोच गया हे,विज्ञान के इस ज़माने में भी लोग अन्धविश्वास को इतना मानते हे की इसी अन्धविश्वास के चलते कभी कभी हमें भारी कीमत चुकानी पड़ती हे ,ऐसा ही हादसा महाराष्ट्र के पुणे में देखने को मिला जहा अंधविश्वास के चलते दंपती को जान से हाथ धोना पड़ा।

पुलिस अधिकारी के अनुसार हत्या अंधविश्वास से प्रेरित थी। मरने वाली महिला नीम हकीम थी लेकिन गांव के कुछ लोगों का मानना था कि वह काले जादू का अभ्यास करती है।

पुणे
महाराष्ट्र के पुणे जिले के एक गांव में एक महिला और उसके पति की कथित रूप से गला रेत कर हत्या कर दी गई। हत्या अंधविश्वास से प्रेरित थी। लोगों को उसपर जादूगरनी होने का शक था। उनकी पहचान जैतू बोरकर और बब्बन मुकाने के रूप में हुई है। पुलिस अधिकारी के अनुसार मरने वाली महिला नीम हकीम थी लेकिन गांव के कुछ लोगों का मानना था कि वह काले जादू का अभ्यास करती है।
खेड़ पुलिस थाने के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि कुछ दिन पहले बोरकर की बेटी के पेट में सिस्ट बन गया था। बोरकर को संदेह था कि यह लीलाबाई के काले जादू के प्रभाव के कारण हुआ है। उन्होंने बताया कि पीड़ित के पडोसियों ने दोनों को खून से लथपथ पड़ा हुआ देखा और पुलिस को इसकी सूचना दी।