चांद के अंधेरे कोने पर चीन की स्ट्राइक

चीनी अंतरिक्ष की ओर एक और बड़ा कदम बढ़ा दिया है उसने 8 दिसंबर को चांद की दूसरी सतह जहां पर अंधेरा रहता है उसे इसके पर एक दो पर भेजा है। यह रोवर उसी समय जाएगा जहां का हिस्सा हमें पृथ्वी से दिखाई नहीं देता है मिशन का नाम चीनी पूर्णा लिखित हूं कि चंद्रमा देवी के नाम पर विचार है

हमेशा धरती के सामने रहने वाला भाग आगे के हिस्से के समतल क्षेत्र है रोबड उबड़ खाबड़ वाली दूसरी जगहों पर रोवर की लैंडिंग में काफी चुनौतीपूर्ण हो गई है। वार्ड के लिए तैयारी कर रहा था स्थापित करना है होने के कारण में सबसे बड़ी चुनौती रोबोटिक संपर्क स्थापित करने की थी इसके लिए चेन्नई चांद की कक्षा में स्थापित किया ताकि और धरती के बीच सूचनाओं का आदान-प्रदान होता है।

सबसे पहले चांद की तस्वीर हुई थी 1959 में पहली बार की पहली तस्वीर ली थी उन तस्वीरों को जाने में मदद मिली अभी तक कोई यार और चांद की सतह पर नहीं उतरा है नए साल पर इसको लैंड कराने की उम्मीद जी ने जताई है।

उसने कहा है कि अगर सब कुछ सही रहा तो हम नए साल में चंद्रमा के मौसम तथा उसके अंधेरी सच है कि जानकारी अच्छे से जुटा पाएंगे और उसके रहस्य को समझ पाएंगे यह चीन ने तब किया है जब कोई भी यह करने में सफल नहीं हो सका उसने अंधेरी पता पर उतारा है जो कि एक बड़ा कारनामा है अपने आप में एक रिकॉर्ड है।