पटाखों के प्रदूषण से बढ़ जाता है गर्भपात से हार्टअटैक तक का खतरा

polution
पटाखों में मौजूद छोटे कण सेहत पर बुरा असर डालते हैं, जिसका असर फेफड़ों पर पड़ता है. इस तरह से पटाखों के धुंए से फेफड़ों में सूजन आ सकती है |

दिवाली में पटाखों की धूम नहीं हो तो शायद कुछ कमी सी लगती है. लेकिन अगर पटाखे हमारे स्वास्थ्य को नुकसान व पर्यावरण को हानि पहुंचा रहे हैं तो यकीनन हमें इनके इस्तेमाल को लेकर एक बार फिस से विचार करने की जरूरत है. सुप्रीम कोर्ट ने अपने हाल के फैसले में पटाखों का प्रयोग करने की इजाजत दिवाली की रात आठ से 10 बजे के बीच दी है. तो ये भी तय है कि इन दो घंटों के दौरान दिल्ली व दूसरे महानगरों में प्रदूषण का स्तर बढ़ा रहेगा|

दमा या अस्थमा ही नहीं आ सकता है हार्टअटैक

पटाखों के धुएं से हार्टअटैक और स्ट्रोक का खतरा भी पैदा हो सकता है. पटाखों में मौजूद लैड सेहत के लिए खतरनाक है, इसके कारण हार्टअटैक और स्ट्रोक की आशंका बढ़ जाती है. जब पटाखों से निकलने वाला धुंआ सांस के साथ शरीर में जाता है तो खून के प्रवाह में रुकावट आने लगती है |

गर्भवती महिला का हो सकता है गर्भपात

वहीं दूसरी ओर इनसे कैंसर की आशंका भी रहती है. उन्होंने कहा कि धुएं से दिवाली के दौरान हवा में पीएम बढ़ जाता है. जब लोग इन प्रदूषकों के संपर्क में आते हैं तो उन्हें आंख, नाक और गले की समस्याएं हो सकती हैं. पटाखों का धुआं, सर्दी जुकाम और एलर्जी का कारण बन सकता है और इस कारण छाती व गले में कन्जेशन भी हो सकता है|

पटाखों की जहरीली गैसों के कारण हो सकता है एनिमिया

दिवाली के दौरान पटाखों व प्रदूषण को लेकर बीमार व्यक्तियों को क्या सावधानी बरतनी चाहिए? इस पर डॉ. अग्रवाल कहते हैं कि छोटे बच्चों, बुजुर्गों और बीमार लोगों को अपने आप को बचा कर रखना चाहिए. दिल के मरीजों को भी पटाखों से बचकर रहना चाहिए. इनके फेफड़ें बहुत नाजुक होते हैं. कई बार बुजुर्ग और बीमार व्यक्ति पटाखों के शोर के कारण दिल के दौरे का शिकार हो जाते हैं. कुछ लोग तो शॉक लगने के कारण मर भी सकते हैं. छोटे बच्चे, मासूम जानवर और पक्षी भी पटाखों की तेज आवाज से डर जाते हैं. पटाखे बीमार लोगों, बच्चों और वरिष्ठ नागरिकों के लिए खतरनाक हैं |