मिल गए दुनिया के 5 सबसे जहरीले और जानलेवा पौधे जाने क्या है इनकी खासियत?

European

आप सब जानते है कि पेड़-पौधे आज के हमारे जीवन में कितना महत्व रखते है। जैसा की आप सब जानते है कि पेड़-पौधे हमारे पर्यावरण के लिए कितने महत्वपूर्ण हुए जा रहे हैं। पेड़ पौधे की कमी से हमारे पर्यावरण की हालत खराब होते जा रही है। जैसा की आप सब जानते है कि पेड़ पौधे हमारे पयार्वरण को स्वछ रखने में अपनी अनोखी भूमिका निभाते हैं। पर क्या आप जानते है कि कुछ पेड़-पौधे ऐसे भी होते है जो हमारी जान तक ले सकते है।

आज हम बात करेंगे भारत के ऐसे ही कुछ जानलेवा पेड़ के बारे में और जानेंगे इनकी खासियत।

सुसाइड ट्री: यह पेड़-पौधे अधिकतर केरल या समुन्द्र के आस पास वाले जगहों पर पाया जाता है। यह देखने में थोड़ा मनमोहक जरूर होता है। पर ये पल भर में ही किसी की जान भी ले सकता है। इसके फूल के बीज बहुत हे विषैले होते है। जो ह्रदय और श्वसन तंत्र के लिए बहुत ही हानिकारक होते हैं। इसकी वजह से केरल में कई मोते भी हो चुकी है।

cerbera-odolla

विस्टरिया: जैसा की आप सब जानते है कि हमारी दुनिया कई तरह के रहस्यों से भरी हुई है। कई सारी ऐसी चीजें है जो की देखते ही एक बार में ही आपका मन मोह लेंगी। लेकिन उसको छूना या उसके आस पास जाना आपके लिए बहुत खतरनाक साबित हो सकता है। आज हम बात करेंगे ऐसे ही एक फूल की। यह एक बैंगनी रंग का फूल होता है। जो अधिक तौर पर जापान अमेरिका और साथ ही साथ चीन में पाया जाता है। इस पौधे के किसी भी हिस्से को खाने से माइग्रेन या सर दर्द,कमजोरी,दस्त, बुखार या अन्य कई तरह की बीमारियां हो सकती है।

यूरोपियन यु: यह एक ऐसा पेड़ हे जो यूरोप में पाया जाता है। जो यूरोप के सर्वाधिक पेड़ो में से एक होता है। परंतु इसकी लंबाई 132 फिट तक हो सकती है। इस पेड़ की पत्तियां गहरे हरे रंग की दिखी जाती है। इससे दिल का दोहरा समेत अन्य कई बीमारियां हो सकती है।

 

डॉल्स आईज: यह पेड़ कनाडा, अमेरिका, जॉर्जिया और कई अन्य देशों में देखा जाता है। इस पेड़ की खासियत यह है कि यह देखने में बहुत आकर्षित होता है। इसके फूल काले और सफ़ेद रंग के होते है। इस फूल से मनुष्य के साथ साथ पशु और पक्षियों को भी खतरा है।

 

लकी नट: यह पेड़-पौधे आपको अपनी और बहुत आकर्षित करता है परंतु उतना ही ये जानलेवा भी साबित हो सकता है। यह पौधा आपको अमेरिका उष्ण कटिबंधीय छेत्र में देखने को मिलता है। जो की अधिकतम 23 फिट तक बढ़ता है। और 12 महीने इसमें फूल लगते है। इस पेड़ के सभी हिस्सों ग्लूकोसाइड के कारण हृदय के लिए हानिकारक मने जाते है। और साथ ही साथ दस्त,पेट दर्द,और गले में जलन जैसे अन्य बीमारिया हो सकती है।