जब जयसिंह ने रोल्स रॉयस से उठवाया कचरा

रोल्स रॉयस
रोल्स रॉयस

कहते है इंसान सब कुछ भूल सकता है लेकिन अपमान नही,ऐसा ही कुछ हुआ दुनिया के अमीरों की मनपसंद कार रोल्स रॉयस कार की कंपनी के साथ , रोल्स रॉयस आज भी एक आलीशान गाड़ी मानी जाती है तो उस समय तो हर अमीर इसे अपनी कारो कि लिस्ट में शामिल करना चाहता था ।

अलवर के महाराजा जयसिंह
अलवर के महाराजा जयसिंह

बात है 1920 कि , राजस्थान के अलवर के महाराजा जयसिंह लंदन गए हुए थे वे वहां अपने साधारण कपड़ो में टहल रहे थे उन्हें इन कपड़ो में देखकर कोई नही कह पाता के वो अलवर के महाराजा होंगे टहलते टहलते वे पहोच गए रोल्स रॉयस के शोरूम तक, लेकिन वहां के सेल्समैन को लगा ये कोई आम हिंदुस्तानी है ये समझ कर उसने जयसिंह का अपमान कर दिया

जयसिंह वापस अपने होटल गए जहा पे वो ठाठ माठ से रुके थे इस बार उन्होंने अपने राजसी कपड़े पहने ओर फिर से रोल्स रॉयस के उस शोरूम पहोचे जहाँ उनका अपमाना किया गया था लेकिन इस बार बात अलग थी उन के स्वागत में लाल कार्पेट बिछा दिया गया था जयसिंह ने शोरूम में खड़ी सभी 7 रॉल्स रॉयसकारो को खरीद लिया ओर स्वदेश वापस लौटे

भारत वापस लौटे ते ही जयसिंह ने सभी गाड़ियों को अलवर के नगरपालिका को सौप दिया और आदेश दिया कि इन गाड़ियों से शहर भर का कचरा उठवाया जाये

रोल्स रॉयस
रोल्स रॉयस

दुनिया में मशहूर रोल्स रॉयस से कचरा उठवाने की बात दुनिया मे फेल गयी रोल्स रॉयस का स्टेटस नीचे गिर गया अब लोग इस गाड़ी का मज़ाक उड़ाने लगे कि क्या वही रोल्स रॉयस जिसे भारत में कचरे उठाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है ? जो रोल्स रॉयस अपनी शान के लिए जानी जाती थी अब एक मजाक बनके रह गयी ।

कंपनी को अपने भूल का अंदाज़ा हुआ उन्होंने तुरंत राजा जयसिंह से लिखित मांगी माफी आखिरकार राजा ने कारो से कचरा उठवाना बंद किया, तो इसलिए किसी का अपमान नही करना चाहिए और वो भी उसके कपड़े देखकर तो कतइ नही ।