अब आपकी एक भूल से हो सकता है आपका वाट्सएप्प अकॉउंट बंध ।पढ़े ये खास रिपोर्ट

हाल ही में व्हाट्सऐप ने चाइल्ड पोर्नोग्राफी को एक “घिनौना” अपराध मानते हुये कहा कि वह एजेंसियों के अनुरोध पर इस तरह के अपराधों की जांच करेगी।

व्हाट्सऐप के प्रवक्ता ने कहा, “हम उन संदेशों को नहीं देख सकते हैं जो लोग एक-दूसरे को भेजते हैं, परन्तु हम उपयोगकर्ताओं की शिकायत पर खाते बंद करने समेत अन्य कदम उठा सकते हैं।” उन्होंने ये भी कहा कि चाइल्ड पोर्नोग्राफी के लिये हमारे मंच पर कोई जगह नहीं है।कंपनी की ओर से यह माहिती उच्चतम न्यायालय की प्रतिक्रिया के बाद आई है।

न्यायालय ने कहा है कि केंद्र सरकार और गूगल, माइक्रोसॉफ्ट तथा फेसबुक समेत दिग्गज इंटरनेट कंपनियां बलात्कार, चाइल्ड पोर्नोग्राफी और आपत्तिजनक सामग्री को खत्म करने पर सहमत है। इसमें कहा गया है कि केंद्र द्वारा दिए गए सुझावों के कार्यान्वयन के उद्देश्य से हर इकाई को मानक परिचालन प्रक्रिया (एसओपी) का मसौदा या प्रस्ताव देना होगा। न्यायमूर्ति मदन बी लोकूर और यू यू ललित ने कहा,”सभी लोग सहमत है कि चाइल्ड पोर्नोग्राफी, बलात्कार और सामूहिक बलात्कार के वीडियो को जड़ से हटाये जाने की जरुरत है। इस आधार पर एसओपी का प्रस्ताव/ मसौदा तैयार किया जाएगा।”